चौपाल में ग्रामीणों को मिली सरकारी योजनाओं की जानकारी

चौपाल में ग्रामीणों को मिली सरकारी योजनाओं की जानकारीगाँव कनेक्शन की ओर से गिहार बस्ती में चौपाल लगाकर ग्रामीणों को कई सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी दी गयी।

इश्त्याक खान, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरैया। गाँव के कई लोगों को सरकारी योजनाओं के बारे में पूरी जानकारी नहीं होती। इसी वजह से ग्रामीण केंद्र और प्रदेश सरकार की योजनाओं के लाभ से महरूम हो जाते हैं। ऐसे में ग्रामीणों को इन योजनाओं के बारे में जानकारी देने के लिए गाँव कनेक्शन की ओर से गिहार बस्ती में चौपाल लगाई गई, जहां ग्रामीणों ने बढ़-चढ़ कर अपनी सहभागिता निभाई।

जिला मुख्यालय से 10 किलोमीटर की दूरी पर शहर के मोहल्ला नरायनपुर में पूरब की तरफ गिहार लोगों की बस्ती है। बस्ती में तकरीबन 250 लोग रहते हैं, जो जिले से बाहर फेरी लगाकर कांच के बर्तन बेचकर परिवार का पालन पोषण करते हैं। बस्ती के कुछ लोगों के पक्के मकान हैं, लेकिन आधे से अधिक लोग ऐसे हैं, जो झुग्गी-झोपडी में रह रहे हैं। उनके पास जगह तो खुद की है, लेकिन मकान बनवाने के लिए पैसा नहीं है। बस्ती के लोग आवास, शौचालय, पेंशन, शादी अनुदान से अनभिज्ञ हैं।

पति की दुर्घटना में मौत हो चुकी है। उसके तीन बच्चे हैं। मजदूरी और कांच के बर्तन बेचकर बच्चों का पेट पालते हैं। अगर पेंशन मिलने लगे तो पेट भरने में आसानी हो जाई। चौपाल में कई सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी मिली है।
लाली देवी (35 वर्ष), गिहार बस्ती की विधवा महिला

ऐसे में बस्ती के लोगों की समस्याओं को जानने और उन्हें जागरूक करने के लिए तिलक महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं के साथ गाँव कनेक्शन द्वारा बस्ती में चौपाल लगाई गई। चौपाल में छात्रों ने ग्रामीणों को प्रधानमंत्री आवास योजना के संबंध में बताते हुए आवेदन करने की प्रक्रिया समझाई। वहीं, शौचालय के लिए स्वच्छ भारत मिशन के बारे में बताया।

इसके अलावा महिलाओं को ऑनलाइन आवेदन कर आवास के लिए ऋ़ण लेने की प्रक्रिया के बारे में बताया गया। ग्रामीणों को बताया कि खुले में शौच मुक्त अभियान के तहत सरकार शौचालय के लिए ग्रामीणों को अनुदान दिया जाता है। इसके अलावा विधवा, वृद्धा पेंशन के लिए समाज कल्याण में फार्म भरने से लेकर जमा करने की प्रक्रिया समझाई गई।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top