इस बार अलग अनुभव कराएगा मतदान

इस बार अलग अनुभव कराएगा मतदानगाँवों में एश्योर मिनिमम फैसिलिटी के आधार पर तैयार किए गए स्कूलाें में मॉडल बूथ

राजीव शुक्ला, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कानपुर। विधान सभा 2017 के चुनावों में कानपुर जनपद के ग्रामीण क्षेत्र के मतदाता इस बार जिन बूथों में मतदान करेंगे, वो सभी मतदान बूथ माडल बूथ के रूप में विकसित किए गए हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित इन सभी बूथों को इस बार एश्योर मिनिमम फैसिलिटी (एएमएफ) के आधार पर तैयार किया गया है। इन बूथों में पेयजल, शौचालय, फर्नीचर, रैंप, छाया और बिजली के खम्भों की उपलब्धता और भवन के मध्य तार की उपलब्धता और मध्य स्थल के अंदर बरामदे में बिजली फिटिंग आदि न्यूनतम सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। ग्राम पंचायतों में स्थित समस्त बूथों को मॉडल बूथ बनाए जाने के निर्णय के उपरांत मतदान केंद्रों के कमरों में टाइल्स लगाए गए हैं। इतना ही नहीं, शौचालयों में भी टाइल्स लगा कर पुन: निर्माण भी कराया गया है।

इन बूथों पर दिव्यांग मतदाताओं के लिए शुद्ध पेयजल, बिजली और छाया की व्यवस्था भी उपलब्ध कराई गई है।
अरुण कुमार, सीडीओ, कानपुर नगर।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह सारे मतदान केंद्र प्राथमिक विद्यालयों और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में स्थापित हैं, जिससे एक पंथ दो काज भी हो गए हैं। चुनाव के उपरांत इन स्कूल में पड़ने वाले बच्चों को एक साफ-सुथरा वातावरण भी मिलेगा। सभी 1150 बूथ के मतदेय स्थलों के कमरों में टाइल्स लगाये जा चुके हैं, साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों के 1911 प्राथमिक विद्यालयों और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में जिन शौचालय का निर्माण कराया गया है, वह सभी महिला और पुरुष शौचालय आदर्श शौचालय के रूप में तैयार किए गए हैं।

बूथ के कमरों में टाइल्स निर्माण पर 11.60 करोड़ रुपए और स्कूल शौचालय के पुन: निर्माण पर 3.80 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। कुल मिलाकर 15.40 करोड़ रुपए की धनराशि को खर्च करके जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित बूथों को आदर्श बूथ बना दिया गया है और यह सभी कार्य पंचायत स्तर पर चतुर्थ राज्य वित्त आयोग एवं 14वां वित्त आयोग की संस्तुतियों से ग्राम पंचायतों को प्राप्त धनराशि से कराए गए हैं।

कानपुर नगर के मुख्य विकास अधिकारी अरुण कुमार बताते हैं, ष”उइन बूथों पर दिव्यांग मतदाताओं के लिए शुद्ध पेयजल, बिजली और छाया की व्यवस्था भी उपलब्ध कराई गई है। निर्वाचन आयोग के निर्देश के क्रम में इन सुविधाओं के उपलब्ध कराए जाने के लिए मतदाताओं को न्यूनतम आवश्यक सुविधा उपलब्ध होने के कारण मतदान के दौरान समितियां उपलब्ध होंगी। जनपद के मतदाताओं से उनकी अपील है कि वह अधिक से अधिक संख्या में मतदान केंद्रों पर जाकर अपने मताधिकार का प्रयोग करें।”

अब अच्छा लगने लगा स्कूल

कानपुर के भीतर गाँव के निवासी 38 वर्षीय असलम बताते हैं, "अब कम से कम इस काम से स्कूल का कायाकल्प तो हो गया, भले ही वह मतदान स्थल के रूप में हुआ हो। मगर अब पढ़ाई साफ़ सुथरी जगह में और अच्छे वातावरण में होगी, ये बहुत ही अच्छा हुआ है। वही कानपुर के ही भीतर गाँव के उच्च प्राथमिक विद्यालय में कक्षा 6 का छात्र 11 वर्षीय कन्हैया मिश्र का कहना है कि हमारा स्कूल बहुत अच्छा हो गया है। कमरों में लाइट लग गयी है और जमीन में पत्थर भी लगा दिए गए हैं, अब स्कूल अच्छा लगने लगा है।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top