कानपुर क्षेत्र के नहर-तालाब सूखे, पानी के लिए भटकने लगे जंगली पशु-पक्षी

कानपुर क्षेत्र के नहर-तालाब सूखे, पानी के लिए भटकने लगे जंगली पशु-पक्षीकानपुर नगर के बिल्हौर तहसील क्षेत्र में सूखा पड़ा नहर।

उपदेश कुमार, स्वयं कम्युनिटी रिपोर्टर

कानुपर। कानपुर नगर की बिल्हौर तहसील क्षेत्र के अनेकों गाँव में अब पानी का संकट उत्पन्न हो गया है। चिलचिलाती गर्मी के कारण गाँव के तालाब भी सूखने लगे हैं। मनरेगा के तहत बना घिमऊ गाँव का आर्दश तालाब भी सूख गया है, जिसके कारण क्षेत्र में जल संकट की समस्या गहराने लगी है। तालाबों और रजवाहों में पानी न होने से पशु पालक ही नहीं, बल्कि जंगली पशु-पक्षी भी परेशान हैं।

कानपुर नगर के बिल्हौर तहसील क्षेत्र में सूखा पड़ा तालाब क्षेत्र।

ये भी पढ़ें: आधी परियोजनाओं के बंद होने से सूख रहे हलक

क्षेत्र के सभी तालाबों और अन्य जल स्त्रोतों को भरने के लिए खंड विकास अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए हैं। इसके साथ ही निचली गंग नहर के सिंचाई कर्मियों को वरीयता के आधार पर रजवहों में पानी छोड़ने को कहा गया है। दो सप्ताह के अंदर सूखे पड़े तालाबों में पानी भरा दिया जाएगा।
विनीत कुमार, उपजिलाधिकारी, बिल्हौर

गाँव घिमऊ के निवासी तारा चन्द्र (58वर्ष) बताते हैं, “तालाबों और रजवाहों में पानी न होने हम लोगों को अपने जानवरों को पानी पिलाने के लिए हैण्ड पम्प का सहारा लेना पड़ रहा है, जबकि पहले जानवर तालाब में पानी भी पी आते थे। वहीं नहा भी लेते थे, लेकिन अब तो तालाब सूखने की कगार पर हैं।”

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

डम्मर निवादा के निवासी कौशल सिंह (42 वर्ष) बताते हैं,“ यहाँ के जंगल में हिरन के अलावा बहुतायत में लोमड़ी, जंगली खरगोश, नीलगाय, बारह सिंगा सहित विविध प्रकार के पक्षियों का निवास है। लेकिन जंगल के पानी स्त्रोत सूख जाने और रजवाहे में पानी न आने से उक्त पशु पक्षी गाँवों की ओर आ रहे हैं।

ये भी पढ़ें: समुंदर में नहीं, तालाब में बन रहे हैं मोती

वहीं खीरा, ककड़ी, तरबूज, खरबूजा सहित अन्य जायद की फसलें बिना पानी की सूख रही हैं।”

कसिगवां जिला पंचायत सदस्य मीना गौतम ने बताया,“वर्तमान मे पानी की समस्या के लिए जिलाधिकारी कानपुर नगर से तत्काल क्षेत्र के सभी तालाबों, पोखरों में पानी भरवाने की मांग की है। जिसके लिए उनके द्वारा शीघ्र ही व्ययस्था करने का अस्वासन भी दिया गया है ।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top