कानपुर में सूख गए जलस्रोत, आदर्श तालाबों में भी पानी नहीं

Rajeev ShuklaRajeev Shukla   2 Jun 2017 10:15 PM GMT

कानपुर में सूख गए  जलस्रोत, आदर्श तालाबों में भी पानी नहींकानपुर के बिल्हौर तहसील स्थित एक गांव के पास सूखा पड़ा तालाब।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

बिल्हौर (कानपुर)। महात्मा गांधी ग्रामीण रोजगार योजना सहित सिंचाई व राजस्व विभाग की कई योजनाओं के तहत खोदे गए तालाब सिर्फ सरकारी आंकड़ों में बढ़ोत्तरी कर रहे हैं, लेकिन करोड़ों रुपये खर्च होने के बाद भी तालाबों में पानी न होने से उक्त तालाबों का कोई लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहे हैं। तालाबों में पानी न होने से ग्रामीण, पशुपालक, किसान ही नहीं बल्कि वन्य जीव और पशु-पक्षी भी परेशान हैं। इसके बाद भी जिले के अफसर इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

कानपुर के बिल्हौर तहसील स्थित सुजावलपुर गाँव का एक दृश्य।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

बिल्हौर ब्लॉक के सुजावलपुर गाँव निवासी सवित्री (40वर्ष) बताती हैं, “जानवर रखना तो आसान है, लेकिन गर्मियों इनको पानी और हरा चारा खिलाना सबके बस की बात नहीं है। गाँव के सभी तालाब सूख पड़े हैं, चारागाह भी तेज गर्मी के कारण पूरी तरह सूख गए हैं। अब बकरियों को रखने में दिक्कत आ रही है।”

सूखे पड़े तालाबों को भरवाने के लिए प्रत्येक ब्लाक स्तर पर कमेटी का गठन करवाया गया है। मनरेगा के द्वारा नालियों, जलाशयों, झीलों की साफ सफाई करवाई जा रही है।
विनीत कुमार, उप जिलाधिकारी, बिल्हौर

वहीं, बीरामउ गाँव निवासी किसान दुर्गा अवस्थी (55वर्ष)ने बताया, “गाँव का बड़ा तालाब सूखने से इस बार खरबूजा, तोरई, खीरा और लौकी आदि की जायद फसल नहीं बोइ जा सकी है। सिंचाई विभाग के द्वारा गाँव की कोई तलैया तक नहीं भरवाई गई है।” उत्तरीपुरा गाँव निवासी दूधिया राजीव पाल ने बताया, “ताल-तलैया सूखी हैं।

संबंधित खबर: तालाबों के साथ बुंदेलखंड में सूख गया मछली व्यवसाय

गाय-भैंस को हैंडपंप से ही पानी पिलाकर काम चलाया जा रहा है। खलिहान, चारागाह में सिंचाई की व्यवस्था न होने से पशुओं को पर्याप्त हरा चारा नहीं मिल पा रहा है, इससे दूध उत्पादन भी दिनों-दिन कम होता जा रहा है।”

इन गाँवों के तालाब पड़े हैं सूखे

बरौली, बिल्हौर देहात, कुदौरा, सुभानपुर, शाहमपुरकोट, दरियापुर, बेदीपुर, राढ़ा, मतलबपुर जुलाहा, गदनपुर आहार, पूरा, बीरामऊ, नदीहा, रामपुर नरुआ, अरौल, बारंडा, हिलालपुर, चोरसा, लोधनपुरवा, औरोंताहरपुर, संती, बकोठी, नसिरापुर, ददिखा, भिडुरी, अबाबकरपुर, सिहुरा, खजुरी, सुजावलपुर, भड़िया, लालपुर, राजेपुर, आंकिन, बहरमापुर, आराजीईषेपुर, हलपुरा, सहित बड़ी संख्या में गांवों के तालाब तेज गर्मी में सूखे पड़े हैं।

आंकड़ों के आइनें में बिल्हौर तहसील

  • कुल तालाब - 1290
  • सूखे पड़े तालाब- 1150

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top