बारदाना न होने की वजह से रुकी गेहूं की 

Arvind Singh ParmarArvind Singh Parmar   3 April 2017 7:55 PM GMT

बारदाना न होने की वजह से रुकी गेहूं की बंद पड़े हैं क्रय केन्द्र।

अरविन्द्र सिंह परमार, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। यूपी सरकार ने शत-प्रतिशत गेहूं की 1 अप्रैल से खरीद शुरू करने के निर्देश दिए। निर्देश पर ललितपुर जिले में 13.50 लाख क्विंटल गेहूं खरीद का लक्ष्य रखा गया है लेकिन अभी तक ज्यादातर केन्द्रों पर खरीद की शुरुआत नहीं हो पाई है। इसकी वजह है बारदाना यानी बोरा।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

समय पर बारदाना न पहुंच पाने की वजह से खरीद नहीं शुरू हुई। अपनी इस समस्या को बताते हुए महरौनी क्रय केन्द्र प्रभारी दिनेश कुमार (46 वर्ष) बताते हैं, “केन्द्र पर 7 हजार क्विंटल गेहूं खरीदा जाना है। अभी तक गेहूं खरीद शुरू नहीं हुई क्योंकि बारदाना नहीं मिला, केवल कांटा उपलब्ध हुआ है। इस संबंध में एसडीएम से लिखित में अनुरोध किया है। जैसे ही बारदाना उपलब्ध हो जाएगा, तुरन्त गेहूं की खरीद की जाएगी।”

वहीं छपरट गांव के रहने वाले 45 वर्षीय मंगल सिंह बताते हैं, “केन्द्र पर गेहूं खरीद नहीं हो रही है क्योंकि बारदाना नहीं है। दो-तीन दिन में बारदाना आएगा, तभी गेहूं खरीद की जाएगी।”

गेहूं के क्रय केन्द्र की खरीद का विवरण हर दिन ऑनलाइन फीड किया जाएगा। जनपद में 67 क्रय केन्द्रों में से 60 केन्द्र पीपीएफ हैं जहां 6.20 लाख क्विंटल खरीद का लक्ष्य है। वहीं राज्य कर्मचारी कल्याण निगम के दो केंद्र, भारतीय खाद्य निगम के दो केन्द्र, मार्केटिंग के तीन, कुल 7 केन्द्रों पर 7.20 लाख क्विंटल गेहूं की खरीद होनी है। क्रय केन्द्रों पर किसानों से छनाई, उतरवाई के नाम पर केन्द्र प्रभारी को प्रति क्विंटल 10 रुपया देना होगा। जो रुपया आरटीजीएस चेक के माध्यम से किसानों को वापस कर दिया जाएगा।

कृषि विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 2016-17 में 31 जनवरी तक जिले में एक लाख 35 हजार हेक्टेयर में गेहूं बोया गया था। फसल अच्छी होने की वजह से किसानों को अच्छी पैदावार मिलने के आसार हैं। किसानों की सुविधाओं के लिए और उनकी समस्या के समाधान के लिए कंट्रोल रूम भी बनाया गया है। खाद्य विपणन विभाग ने कन्ट्रोल रूम 05176-276355 बनाया है, जो सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहेगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.