Top

तीस सेकेंड हाथों के धोने से रहेंगे कई बीमारियों से दूर

हाथ तभी साफ होते हैं जब उन्हें साबुन से अच्छी प्रकार मल-मल कर दो मिनट तक धोया जाए

Deepanshu MishraDeepanshu Mishra   1 Oct 2018 9:52 AM GMT

तीस सेकेंड हाथों के धोने से रहेंगे कई बीमारियों से दूर

लखनऊ। "बच्चे और बड़े अगर खुद को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो बहुत जरूरी है कि वो अपने हाथों को साफ़ रखें। आपके हाथ अगर साफ़ नहीं होंगें तो न जाने कितनी बीमारियों का आप शिकार हो सकते हैं।" यह कहना है लखनऊ के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के फिजिशियन डॉ. एससी मौर्य का।

सिर्फ शहरों में ही नहीं, बल्कि गाँव-गाँव तक लोगों में स्वच्छता की अलख जगे, इसके लिए यूनिसेफ और स्वच्छ भारत अभियान भी तेजी से काम कर रहे हैं।


हाथ न धुलने से होने वाली बीमारियों के बारे में फिजिशियन डॉ. एससी मौर्य बताते हैं, "हाथ न धोने से कई गंभीर बीमारियां हमें अपनी गिरफ्त में ले सकती हैं, विशेषतौर पर बच्चों को। इसके कारण फ्लू, स्वाइन फ्लू, सर्दी-जुकाम, उल्टी-दस्त, पेट की बीमारियां, गले में संक्रमण, श्वास नली का संक्रमण और कई अन्य संक्रामक बीमारियां हो सकती हैं। लेकिन इनसे बचने के लिए सिर्फ हाथ धोना ही काफी नहीं, इसके लिए सही से हाथ धोना चाहिए ताकि कीटाणु खत्म हो सकें।"

यह भी पढ़ें : बच्चों ने खाई साफ-सफाई रखने की शपथ

वह आगे बताते हैं, "सही तरीके से हाथ धोना और उन्हें साफ बनाए रखना भी जरूरी होता है। कई लोग हाथ धोने के नाम पर केवल अंगुलियों के पोर भिगो लेते हैं और सोचते हैं कि हाथ धुल गये हैं। हाथ तभी साफ होते हैं जब उन्हें साबुन से अच्छी प्रकार मल-मल कर दो मिनट तक धोया जाए।"

स्वच्छता न अपनाने और हाथों को साफ नहीं रखने से लाखों लोग मौत के शिकार होते हैं। वाटर एड नामक संस्था के अनुसार, वर्ष 2011 में जनगणना के बाद जारी हुए आंकड़े बताते हैं कि देश में गंदगी से विभिन्न बीमारियों के शिकार होकर पांच साल की उम्र तक के लगभग 35 लाख बच्चे प्रतिवर्ष असमय मौत का शिकार होते हैं।

यह भी पढ़ें : रक्षाबंधन पर स्कूल की रसोइया को उपहार में शौचालय देकर प्रिंसिपल ने पेश की मिसाल

डॉ. मौर्य आगे बताते हैं, "अमेरिका की एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों ने एक अध्ययन के बाद बताया कि ज्यादातर लोग सिर्फ छह सेकेंड ही हाथ धोते हैं। जबकि कम से कम 20 से 30 सेकेंड हाथ धोने चाहिए। और सिर्फ हाथ धोना ही नहीं, सही प्रकार से हाथ धोना भी बेहद जरूरी है।"

डॉ. मौर्य बताते हैं, "हाथ धोते समय अच्छी तरह झाग बनाया जाए। इस दौरान हाथों को दोनों ओर से नाखूनों और अंगुलियों के बीच से भी अच्छी तरह साफ करें। साफ करने के बाद पानी से अच्छी तरह से हाथ धोएं और फिर एक साफ और सूखे तौलिये से हाथ साफ करें।" आगे बताते हैं, "हाथ धोने के लिए लिक्विड सोप का इस्ते माल सबसे अच्छा होता है। यह सामान्य साबुन के मुकाबले कीटाणुओं से लड़ने में अधिक शक्तिशाली होता है। यह बार बार अलग-अलग इंसानों के हाथों के सीधे संपर्क में नहीं आता।"

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.