“लुप्त होती प्रजातियों को हम सभी को मिलकर बचाना चाहिए“

“लुप्त होती प्रजातियों को हम सभी को मिलकर बचाना चाहिए“programme in barabanki 

कम्यूनिटी जनर्लिस्ट: आशीष पाठक

फतेहपुर (बाराबंकी)। "वन्य जीवों के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाकर लुप्त हो रही वन्य प्रजातियों के संरक्षण का दायित्व सरकार के साथ-साथ आम जनता का भी है। इस कार्य के लिए सरकार द्वारा बनाये गए अभ्यारण्य आदि में संकट ग्रस्त प्रजातियों को लुप्त होने से बचाने के लिए बड़े उपाय किये जा रहे हैं, सभी के सहयोग से ही यह कार्य पूर्ण रूप में सम्भव होगा।" यह विचार प्राविधिक शिक्षा मन्त्री फरीद महफूज किदवई ने नेशनल इण्टर कालेज सभागार में आयोजित वन्य प्राणि सप्ताह के दौरान आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त किये।

बताया अत्यधिक हानिकारक

सामाजिक वानिकी प्रभाग बाराबंकी के तत्वाधान में आयोजित वन्य प्राणि संरक्षण के इस कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि किदवई एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित जिला अधिकारी अजय यादव ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित करके किया। विशिष्ट अतिथि के रूप में बोलते हुए जिला अधिकारी अजय यादव ने कहा, "प्राकृतिक संतुलन के लिए वन्य जीवों का विशेष महत्व है इसलिये सभी को पर्यावरण को स्वस्थ रखने के लिए वन्य प्राणियों के भी संरक्षण की महती आवश्यकता है। प्रभागीय निदेशक जावेद अख्तर ने ग्लोबल वार्मिंग जैसे कारणों को लुप्त हो रही वन्य प्रजातियों के लिए अत्यधिक हानिकारक बताया।"

विजयी प्रतिभागियों को किया पुरस्कृत

वृक्षारोपण कार्यक्रम में सक्रिय सहयोग के लिए समाज सेवी प्रदीप सारंग एवं नेशनल इण्टर कालेज के प्रवक्ता आशीष पाठक को स्मृति चिह्न प्रदान किया गया। साथ ही साथ वन्य जीव संरक्षण पर आयोजित वाद विवाद प्रतियोगिता, चित्रकला प्रतियोगिता के विजयी विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया गया। वृक्षारोपण अभियान में विशेष सहयोग देने वाले वन विभाग के कर्मचारियों को भी मन्त्री श्री किदवई एवं जिला अधिकारी अजय यादव ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम का कुशल संचालन नेशनल इण्टर कालेज के प्रवक्ता आशीष पाठक ने किया ।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top