पानी के अभाव से किसान हो रहा लाचार 

पानी के अभाव से किसान हो रहा लाचार naher 

कम्यूनिटी जनर्लिस्ट: ओम तिवारी

कक्षा- 12 उम्र- 17

स्कूल- शिव प्रसाद पाण्डे इन्टर कालेज

उन्नाव। आज देश किसानों की स्थिति को लेकर राजनीतिक गलियारे में भी देश की बड़ी-बड़ी पार्टी एक से बढ़कर एक वादे कर रही है, लेकिन किसान वैसे का वैसा ही है लाचार, कमजोर। पूरे देश में किसानों की स्थिति चिंताजनक है। अफसोस की बात तो ये है कि जो हमारा पेट भरते हैं, आज उनका ही परिवार भूखा रहने को मजबूर है।

पानी को तरस रहे हैं किसान

उन्नाव जिले के गाँव पड़री कला के किसानों का भी हाल कुछ ऐसा ही है। यहां के किसानों को खेती करने के लिये एक एक बूंद पानी को तरसना पड़ रहा है। इन्द्र देव की नाराजगी की वजह से बारिश ने भी मुंह मोड़ रखा है। बारिश न होने पर क्षेत्र में एक उम्मीद थी नहर, लेकिन वो भी एक अर्से से सूखी पड़ी हुई है। किसान खेती के लिये बैंक से कर्ज लेता है। लेकिन पानी के अभाव के कारण फसल सूख जाती है और ये किसान अवसादग्रस्त होकर आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं। इस गांव के रहने वाले छात्र ओम तिवारी ने प्रशासन से मांग की है कि गाँव की नहरों में पानी की व्यवस्था कराई जाए ताकि किसान खेती ठीक तरीके से कर पाएं और उन्हे आत्महत्या जैसा कदम न उठाना पड़े।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top