गांव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर मनाया जाएगा ‘स्वयं उत्सव’ , 25 जिलों में होंगे 1000 इवेंट

गांव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर मनाया जाएगा ‘स्वयं उत्सव’ , 25 जिलों में होंगे 1000 इवेंटसिद्दार्थनगर जिले के इटवा में स्थित के श्री यशोदा देवी पांडेय इंटर कॉलेज में स्वयं की टीम।

लखनऊ। गांव कनेक्शन अपनी चौथी वर्षगांठ पर इस बार 'स्वयं उत्सव' मनाने जा रहा है। स्वयं उत्सव के तहत गाँव कनेक्शन 2 से 8 दिसंबर यानी सिर्फ एक सप्ताह में 25 जिलों में 1000 हजार से ज्यादा कार्यक्रम करके तकरीबन 7 लाख लोगों से सीधे जुड़ेगा।

'स्वयं उत्सव' गाँव कनेक्शन के 'स्वयं प्रोजेक्ट' नामक मुहिम का हिस्सा है। इस मुहिम के तहत गाँव कनेक्शन ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने उनमें नेतृत्व क्षमता विकसित करने के साथ समुदायिक पत्रकारों और उद्यमियों को समाज के सामने लगाएगा। हमारा लक्ष्य है आने वाले समय में 'स्वयं प्रोजेक्ट' को वैश्विक अध्ययन का रूप देना है।

स्वयं उत्सव के जरिये हम स्कूल-कॉलेज के छात्र-छात्राओं समेत स्वयं सहायता समूह की महिलाओं, किसानों, आशा कार्यकर्त्रियों, एएनएम आदि लोगों से जुड़ेंगे। हमारे कार्यक्रम स्कूल-कॉलेज, अस्पताल, समुदायिक केंद्र आदि में आयोजित किये जाएंगे। इनमें तरह-तरह के कार्यक्रम अलग-अलग समय पर होंगे, जैसे बेटियों के लिए मार्शल आर्ट प्रशिक्षण, किसानों के लिए मिट्टी का परीक्षण, ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल का प्रशिक्षण, घरेलु हिंसा में कानून विशेषज्ञों से चर्चा आदि।

स्वयं उत्सव के साथ राष्ट्रीयस्तर का टीवी प्रसारणकर्ता, रेडियो पार्टनर और डिजिटल पार्टनर भी सम्मलित होंगे। वहीं उत्सव के विषय कृषि, कौशल विकास, महिलाओं के मुद्दे, स्वास्थ्य और सफाई, इंटरनेट व मोबाइल फोन, आत्म रक्षा, मनोरंजन और नागरिक सशक्तिकरण रहेंगे। इन कार्यक्रमों का प्रभाव क्या पड़ा इसे दिखाने में बेहद पारदर्शिता रखी जाएगी। इसके तहत सभी कार्यक्रमों को गूगल हैंगआउट, फेसबुक लाइव, पेरिस्कोप के जरिये प्रसारित किया जाएगा। इसके अलावा कार्यक्रमों को लाइव जानकारी समय-समय पर अपडेट की जाएगी, जैसे कि क्रिकेट मैच और चुनावों में होता है।

इतना ही नहीं स्वयं उत्सव, गांव कनेक्शन साथ आने वाली संस्थाओं को पूरे देश तक ले जाने का एक और अवसर देता है। ऑल इंडिया रेडियो, रेडियो सिटी, रेड एफएम, बिग एफएम, रेडियो मिर्ची, रेडियो मंत्रा और सावन एप जैसे माध्यम -- जिनसे प्रतिदिन 10 करोड़ लोग जुड़ते हैं -- स्वयं उत्सव से जुड़ेंगे। इसी के साथ टेलीविजन पर 'डीडी नेशनल' और 'आज तक' भी स्वयं उत्सव को देश के हर कोने में पहुंचाने का साधन बनेंगे।

Share it
Top