इस सड़क से गाड़ियां तो दूर पैदल निकलना मुश्किल है 

इस सड़क से गाड़ियां तो दूर पैदल निकलना मुश्किल है अपने इलाके की बदहाल सड़क के लिए छात्रा ने लिखा खत। 

आस्था वर्मा, कक्षा 8, कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

युगांतर विद्या मंदिर, बेलहरा बाराबंकी

बेलहरा (बाराबंकी)। प्रदेश सरकार गाँवों के स्तर को ऊंचा उठाने के लाख प्रयास कर ले, लेकिन प्रशासनिक मशीनरी की लापरवाही से लोग कैसे परेशान होते हैं इसकी बानगी बेलहरा कस्बे के ग्राम बखरिया टोला में देखने को मिलती है। गाँव की कीचड़ भरी सड़क वहां के विकास की कहानी बयां कर रही है।

बेलहरा के बखरिया टोले की सड़क से गुजरता साइकिल सवार।

जिला मुख्यालय से 40 किमी दूर बेलहरा ब्लॉक के बखरिया टोला को जानी वाली सड़क पर इन दिनों नालियों का गन्दा पानी भरा होने के कारण राहगीरों सहित स्कूली बच्चों को आने जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। स्कूली बच्चे कीचड़ से होकर गुजरने को मजबूर हैं। दो साल से खराब पड़ी इस सड़क को बनवाने के लिए ग्राम पंचायत ने कोई कदम नहीं उठाए गए हैं। सड़क अब पूरी तरह से गड्ढ़ों में तब्दील हो चुकी है। वहीं नालियां न होने से सड़क पर गंदा पानी भरा रहता है।

राकेश शुक्ला (29 वर्ष) बताते हैं, "कस्बे के बखरिया टोला जाने वाली सड़क के दोनों तरफ घरों का गन्दा पानी निकलने के लिए प्रशासन ने नालियों का निर्माण करवाया था, लेकिन समय पर नालियों की सफाई न होने से नालियां बंद हो गई, जिससे सड़क पर मलबा व पानी दोनों जमा हो गया। जिस कारण कई बार स्कूली छात्र उस कीचड़ में गिर चुके है।" राकेश आगे बताते हैं, "साइकिल व मोटरसाइकिल से निकलने वाले लोगों को भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। मोहल्ले वालों ने कई बार प्रशासन को प्रार्थना पत्र देकर शिकायत की, लेकिन प्रशासन ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की।"

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top