गाँव में बिना बिजली नहीं चल रहे लैपटॉप

गाँव में बिना बिजली नहीं चल रहे लैपटॉपगाँव में बिजली न होने से खिलौना बने समाजवादी लैपटॉप 

हर्षित कुशवाहा- कम्युनिटी जर्नलिस्ट

स्कूल- बाबा बालकराम इंटर कॉलेज, रामपुर मथुरा

कुशवाहा नगर (सीतापुर)। ''अगर हमारे गाँव में बिजली होती तो हम अपने लैपटॉप से इंटरनेट के जरिए देश-दुनिया से जुड़ते, लेकिन बिजली न होने की वजह से आज तक हमारे लैपटॉप ऑन ही नहीं हुए।" ये कहना है कुशवाहा नगर की वंदना (20 वर्ष) का।

सीतापुर जिला मुख्यालय से लगभग 83 किमी दूर रामपुर मथुरा ब्लॉक के कुशवाहा नगर की वंदना को प्रदेश सरकार की लैपटॉप वितरण योजना के तहत लैपटॉप मिला था। सरकार ने लैपटॉप तो दिए लेकिन बिजली न होने से लैपटॉप एक बार भी ऑन नहीं हुआ। वंदना की तरह ही कुशवाहा नगर और मझिगवां के आधा दर्जन से अधिक छात्र-छात्राओं को लैपटॉप मिला था।

बिजली बिना एक बार भी नहीं चले मुख्यमंत्री द्वारा बांटे गए लैपटॉप

कहने को तो ये दोनों पंचायत नगर पंचायत में आती हैं। वंदना बताती हैं, " 2012 में इण्टरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लैपटॉप बांटे तब मुझे भी मिला था। जहां पर बिजली की सुविधा है वहां लैपटाप का सही उपयोग हो रहा है। जो गाँव बिजली के इंतजार में हैं, वहां आज भी वे लैपटॉप स्विच ऑफ पड़े हैं।"

चार महीने पहले ही हमने जिला अधिकारी को इसके सन्दर्भ में एप्लीकेशन भेजा था, लेकिन कोई कार्यवाई नहीं हुई। डीएम भी बदल गए लेकिन बिजली न आ पायी।
कमलेश मौर्य, कुशवाहा नगर गाँव के पंच

इन गाँवों के लोग आज भी बिजली के इंतजार में हैं। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बांटे गये लैपटॉप भी इसी आस में हैं कि बिजली आयेगी तभी हम चार्ज होंगे और हमारा सदुपयोग होगा।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top