28 साल से बन रहा है बीएसए कार्यालय, 85 लाख खर्च फिर भी नहीं हुआ पूरा

28 साल से बन रहा है बीएसए कार्यालय, 85 लाख खर्च फिर भी नहीं हुआ पूराउन्नाव का निर्माणाधीन बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय

कम्यूनिटी जनर्लिस्ट: अजय यादव

उन्नाव। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय का निर्माण कार्य 28 साल पहले शुरू हुआ और अभी तक बनकर तैयार नहीं हआ है। शासन द्वारा जितनी धनराशि भवन निर्माण केलिए स्वीकृत हुई थी उससे लगभग तीन गुना धनराशि भवन निर्माण में लगा चुकी है, लेकिन भवन का निर्माण कार्य पूरा होना तो दूर रहा उसके खिडक़ी दरवाजे भी उखड़ गए। विरान पड़े आधे-अधूरे भवन में जुआरी जमावड़ा लगाए रखते हैं।

वर्ष 1988 में राजकीय कन्या इंटर कॉलेज के बगल में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय व जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के भवन की स्वीकृत शासन से मिली थी। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में वर्ष 1992-93 से ही भवन का निर्माण कार्यपूरा होने के बाद शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जबकि जिला बेसिक शिक्षाअधिकारी कार्यालय का भवन प्रारम्भ से ही मंदगति से निर्माण कार्य चलता रहा। विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक साढ़े तैंतीस लाख रुपये शासन से बीएसए भवन निर्माण के लिए स्वीकृत हुए थे। पड़ोसियों ने भवन की नींव खोदते समय ही विरोध किया, जिससे निर्माण का कार्य करीब 6-7 माह बाद प्रारम्भ हो सका।

लोक निर्माण विभाग को भवन निर्माण को भवन निर्माण की जिम्मेदारी दी गयी। वर्ष1992 तक इस धनराशि का प्रयोग किया गया। दूसरी किश्त मिलने में देरी हुई तथाधनराशि तीन लाख रूपये मिली जिससे निर्माण का कार्य शिथिल पड़ा। तीसरी किश्त मिलते ही निर्माण कार्य में तेजी आयी मगर तब तक निर्माण सामग्री के मूल्य इतने बढ़ चुके थे कि निर्माण एजेंसी उसे पूरा नहीं करा पायी। वर्ष 1997 तक स्वीकृत धनराशि समाप्त हो गयी। मगर भवन का भूतल कार्य पूरा नहीं हो सका।

इस बीच शिक्षक विधायक राजबहादुर सिंह चन्देल ने भवन निर्माण सम्बंधी विधान परिषद में शासन का ध्यान आकर्षित किया तो दोबारा स्टीमेंट बना और शासन से 85 लाख रूपये तक स्वीकृत हो गया मगर निर्माण एजेंसी प्रथम बनवाने में लग गयी तथा खिडक़ी दरवाजे आदि लग गये और इस बीच वर्ष 2010 तक धनराशि खत्म हो गयी। तब से यह भवन अधूरा पड़ा है। इस दौरान खिडक़ी दरवाजे में लगे थे वह भी निकाल लिए गए और धनाभाव के चलते निर्माण का कार्यपूरा नहीं हो सका। इस बारे में बात करने पर डीएम सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मामला आपके अख़बार के माध्यम से संज्ञान में आया है। इसकी जानकारी लेकर निर्माण पूरा कराया जाएगा।

आपके माध्यम से मामला संज्ञान में आया है। मैं किसी जानकारी लूंगा क्यों अब तक निर्माण पूरा नहीं हुआ साथ ही जल्द इसे पूरा कराने की कोशिश की जाएगी।
सुरेंद्र सिंह, जिलाधिकारी उन्नाव

लाखों रुपये का भुगतान चौकीदार को किया गया

लोक निर्माण विभाग द्वारा बनवाए जाने वाले भवन में एक चौकीदार देखभाल के लिए रखा गया। वह 2012 में सेवा निवृत्त हो गया, जिसे वेतन के रूप में लाखों रूपये का भुगतान किया गया। इसके बावजूद भी खिडक़ी दरवाजे चोर निकाल ले गए।


This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top