#स्वयंफ़ेस्टिवल: अलीगढ़ के छात्र-छात्राओं को मिली आत्मरक्षा और आर्थिक रूप से मजबूत बनाने की चाभी

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   20 Dec 2016 4:01 PM GMT

#स्वयंफ़ेस्टिवल: अलीगढ़ के छात्र-छात्राओं को मिली आत्मरक्षा और आर्थिक रूप से मजबूत बनाने की चाभीअलीगढ़ के श्रीराम मूर्ति गुप्ता राजकीय महाविद्यालय छर्रा में पावर एंजल समूह के संग अलीगढ़ पुलिस।

अलीगढ़। स्वयं फ़ेस्टिवल में आज ताले की नगरी अलीगढ़ के छात्र-छात्राओं को आत्मरक्षा और जीवन को आर्थिक रूप से सबल बनाने की चाभी का ज्ञान दिया।

देश के पहले ग्रामीण अख़बार गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर गाँव कनेक्शन फाउंडेशन स्वयं फेस्टिवल 2016 का उत्तर प्रदेश के 25 जिले में आयोजन कर रहा है। आज अलीगढ़ में स्वयं फ़ेस्टिवल का दूसरा दिन है। जिले में कई कार्यक्रम हो रहे हैं।

अलीगढ़ के श्रीराम मूर्ति गुप्ता राजकीय महाविद्यालय छर्रा में स्वयं फेस्टिवल के कार्यक्रम में सम्मानित जन।

अलीगढ़ के श्रीराम मूर्ति गुप्ता राजकीय महाविद्यालय छर्रा में छात्राओं का उत्तर प्रदेश पुलिस की नई योजनाओं के बारे में बताया गया। पुलिस विभाग की तरफ से आए लोगों ने छात्राओं को 1090 के बारे में बताया। 1090 के बारे में जब छात्राओं को जानकारी हुई तो उन्हें लगा कि वह आत्मसुरक्षा का एक बड़ा हथियार उनके हाथ आ गया है।

1090 :- इसमें बताया गया कि कोई भी पीड़ित महिला या उसकी महिला रिश्तेदार अपनी शिकायत 1090 नंबर पर नि:शुल्क दर्ज करवा सकती है। शिकायत करने वाली महिला की पहचान पूरी तरह गोपनीय रखी जाती है। पीड़िता को किसी भी हालत में पुलिस थाने या किसी आफिस में नहीं बुलाया जाएगा। हेल्पलाइन में हर हाल में महिला पुलिस अधिकारी ही पीड़िता की शिकायत दर्ज करेगी। महिला पुलिस कर्मी अपने वरिष्ठ पुरूष पुलिस कर्मियों को पीड़ित की केवल उतनी ही जानकारी या सूचना उपलब्ध करवाएगी, जो विवेचना में सहायक हो सके। कॉल सेंटर दर्ज शिकायत पर तब तक काम करता रहेगा जब तक उस पर पूरी कार्रवाई नहीं हो जाती।

डायल 100:- परियोजना पूरे प्रदेश के लिए है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि आपदा में फंसे किसी व्यक्ति की सूचना पर 15 से 20 मिनट के भीतर पुलिस मौके पर पहुंचेगी। इसके लिए प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक केन्द्रीयकृत प्रणाली का विकास किया गया है जो कॉलसेंटर की भांति कार्य कर रहा है | यह प्रणाली समस्या के समाधान होने तक पुलिस कार्यवाही की लगातार समीक्षा करती रहेगी |

इसके अलावा ईएफआईआर के बारे में बताया गया। इसमें महिलाएं अब ऑनलाइन शिकायत दर्ज करा सकतीं हैं। ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराने की सुविधा उत्तर प्रदेश में पहली बार उपलब्ध कराई गई है।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने ‘ट्विटर सेवा’ शुरू की है। यह राज्य के 75 जिलों समेत कुल 122 ट्विटर हैंडल सक्रिय रूप से जनता की सेवा के लिए मौजूद हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस ट्विटर के माध्यम से जनशिकायतों का निस्तारण करती है। पुलिस ‘ट्विटर सेवा’ राज्य के 75 जिलों समेत कुल 122 ट्विटर हैंडल सक्रिय रूप से जनता की सेवा के लिए मौजूद हैं।

महिला सम्मान प्रकोष्ठ : उत्तर प्रदेश सरकार ने महिलाओं, नाबालिग बच्चियों व मासूमों के साथ होने वाले अपराधों पर लगाम लगाने और उनके आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करवाने के लिए पुलिस महकमे में महिला सेल को और ताकतवर बनाते हुए ‘महिला सम्मान प्रकोष्ठ’ का गठन किया है। इस सेल को सुरक्षा के साथ महिलाओं से जुड़े अन्य मामलों जैसे भ्रूण हत्या, देहातों में शौचालयों की कमी जैसे सामाजिक मुद्दों पर कार्रवाई में भी मदद करनी थी।

इस अवसर पर अलीगढ़ पुलिस ने नए पावर एंजल समूह का गठन किया। अलीगढ़ पुलिस ने पावर एंजल के बारे में बताया कि पावर एंजल क्या है?

पावर एंजल यूपी पुलिस की एक महत्वाकांक्षी योजना है, जिसके तहत जागरूक और समाज के लिए योगदान देने की ख्वाहिश रखने वाली लड़कियों को पावर एंजल यानी स्पेशल पुलिस ऑफिसर के पद पर नियुक्त किया जा जाता है।

  1. पुलिस और पीड़ित महिलाओं के बीच एक पुल का काम करना
  2. महिलाओं के हक़ के लिए आवाज़ उठाना और उनकी मदद करना
  3. पुलिस हेल्पलाइन नंबर 1090 के बारे में स्कूल और कॉलेजों में जानकारी देना
  4. महिलाओं और लड़कियों को 1090 की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी देना और उनपर हो रहे अन्याय के ख़िलाफ़ शिकायत करने के लिए प्रेरित करना
  5. महिलाओं और लड़कियों के साथ दोस्ताना रिश्ते बनना, ताकि वो उनसे मदद मांगने से झिझकें नहीं
  6. पीड़ित महिलाओं को पुलिस हेल्पलाइन नंबर 1090 से जोड़ना और उनकी हिम्मत बढ़ाए रखना

नए पावर एंजल समूह के साथ अलीगढ़ पुलिस।

ई बटुआ के बारे में जानकारी देते हुए डा. फूल सिंह ने बताया कि नोटबंदी के इस मौजूद समय में आम आदमी ने पैसों के लिए जिन दिक्कतों का सामना किया वो उनके अनुभव में शामिल हो गया है पर कुछ लोग जो पेटीएम से परिचित थे वो उनके लिए इस वक्त भी पैसे की कमी नहीं रही। ई बटुए के लाभ के बारे में उपस्थित छात्र-छात्राओं को बताया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top