पीड़िताओं को राहत पहुंचा रहे आशा ज्योति केंद्र, कन्नौज में अब तक 39 को मिली मदद 

पीड़िताओं को राहत पहुंचा रहे आशा ज्योति केंद्र, कन्नौज में अब तक 39 को मिली मदद अस्थाई कार्यालय में मौजूद केंद्र का स्टाफ।

अजय मिश्र, कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

कन्नौज। यहां स्थित लक्ष्मीबाई आशा ज्योति केंद्र में बीते 10 महीने में महिलाओं के 49 मामले पंजीकृत किए गए हैं। इनमें अब तक 39 प्रकरण निस्तारण किए जा चुके हैं। चार लोगों के खिलाफ कार्रवाई तो तीन मामलों में रिपोर्ट दर्ज कराई जा चुकी है।

प्रदेश सरकार ने निर्भया केंद्र की तरह महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए 11 जिलों में रानी लक्ष्मीबाई आशा ज्योति केंद्र खोले हैं। यहां महिलाओं को पुलिस व कानूनी मदद से लेकर चिकित्सा सुविधा मिलती है। इसका पिछले साल मार्च में उद्घाटन किया गया था।

कन्नौज के विनोद दीक्षित अस्पताल में अभी सीएमओ ऑफिस में आशा ज्योति केंद्र चल रहा है। इसमें रिपोर्टिंग पुलिस चौकी भी है। प्रभारी एसआई नीलम पांडेय हैं। यहां की काउंसलर श्रद्धा सिंह ने बताया कि उनके यहां जो भी मामले आए, अधिकतर निपटारा कराया जा चुका है। एक रेस्क्यू वैन भी है। जो मौके पर पहुंचकर घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं की मदद करती है। दूसरी ओर नया भवन तकरीबन बन चुका है। प्रशिक्षण शुरू होने से पहले कार्यालय नए भवन में शिफ्ट हो जाएगा। भवन की लागत करीब दो करोड़ बताई गई है।

प्रचार-प्रसार के लिए प्रशिक्षण नौ से

संरक्षण अधिकारी विजय राठौर ने बताया कि आशा ज्योति केंद्र के नए भवन में दो चरणों में प्रशिक्षण भी होना है। इसमें कई लोगों को बुलाया गया है। तीन दिवसीय पहला चरण नौ से 11 जनवरी और दूसरा चरण 16 से 18 जनवरी के बीच होगा। इसका मुख्य कारण जिनको प्रशिक्षण मिले वह अन्य लोगों को जानकारी दे सकें, जिससे योजना के बारे में पता चल सके।

इन्हें दिया जाएगा प्रशिक्षण

प्रशिक्षण के लिए पांच महिला प्रधान, डीसी महिला समाख्या, डीसी नेहरू युवा केंद्र, डीसी एनएसएस, बच्चों व महिलाओं के विषय पर कार्यरत स्वयं सेवा संस्थाएं, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से नामित अधिवक्ता, संबंधित अस्पताल से दो डॉक्टर, चार पैरामेडिकल स्टॉफ, रिपोर्टिंग पुलिस चौकी की दो महिला एसआई, चार आरक्षी, केंद्र में कार्यरत सामाजिक कार्यकर्ता, परामर्शदाता, जिला बाल संरक्षण इकाई के संरक्षण अधिकारी, जिला संचालन समिति के सदस्य, जिला परिवीक्षा अधिकारी एवं प्रोबेशन कार्यालय में कार्यरत समस्त स्टाफ को बुलाया गया है।

क्या-क्या सुविधाएं मिलेंगी

यहां सामाजिक कार्यकत्री अमिता सिंह ने बताया कि आशा ज्योति केंद्र का शुभारंभ आठ मार्च 2016 को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ से किया था। यहां पर महिलाओं के कौशल विकास के लिए प्रशिक्षण केंद्र, रहने की सुविधा, मनोवैज्ञानिक परामर्श, कानूनी सहायता, हेल्पलाइन, महिला रिपोर्टिंग चौकी वगैरह की व्यवस्था की गई है।

और भी हैं सुविधाएं

  • आकस्मिक चिकित्सा सेवा
  • 1098 चाइल्ड लाइन सेवा का संचालन
  • 1090 महिला हेल्पलाइन
  • 100 पुलिस सहायता
  • 102, 108 चिकित्सा हेल्पलाइन

ये हैं हेल्पलाइन नंबर

  • निशुल्क हेल्पलाइन नंबर रेक्स्यू वैन- 181
  • हेल्पलाइन नंबर- 7318095627

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top