बाराबंकी में मनुष्यों, मिट्टी और जानवरों की जांची सेहत

बाराबंकी में मनुष्यों, मिट्टी और जानवरों की जांची सेहतस्वयं फेस्टिवल के तहत बाराबंकी में कार्यक्रम में लोगों को जानकारी देेते अधिकारी।

कविता दिवेदी (कम्युनिटी जर्नलिस्ट) -21 वर्ष

बाराबंकी। जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर स्थित हैदरगढ़ क्षेत्र के नरेन्द्रपुर मदरहा में शुक्रवार को गांव कनेक्शन के चौथे स्थापना वर्ष 'स्वयं फेस्टिवल' का आगाज बड़ी धूमधाम से हुआ। पशुपालन विभाग के सहयोग से यहां बहुउद्देशीय पशु चिकित्सा शिविर का आयोजन हुआ। इसके अलावा मृदा जांच कार्ड वितरण भी किया गया।

इसलिए जरूरी है मिट्टी की जांच

कृषि विभाग बीज भण्डार के त्रिवेदीगंज ब्लॉक से प्रदीप कुमार और उपसम्भारी कृषि प्रसाद अधिकारी हैदरगढ़ से सन्तलाल गुप्ता ने किसानों को खेती की जानकारी दी और कहा कि आपको अपने मिट्टी की जाँच करवानी चाहिए। उससे आपको आपने खेत मे हो रही परेशानी से मुक्ति मिल सकती है। वहीं प्रदीप ने कहा कि गांव कनेक्शन का एक बहुत ही अच्छा अखबार है। इससे किसानों को पशु और खेती-किसानी की सही जानकारियां मिलती हैं।

वही उपसम्भारी कृषि प्रसाद अधिकारी ने किसानों को बताया कि गेहूं और अन्य फसल की बुवाई करते समय आपको पहले अपने खेत की मिट्टी की जानकारी कर लेनी चाहिए, जिससे आप अपने खेत में अच्छी और ज्यादा फसल पैदा कर सकें। साथ ही उन्होंने उर्वरक की सब्सिडी के बारे में बताया। इसके अलावा किसानों की समस्याओं का निराकरण भी किया।

पशु चिकित्सा अधिकारी ने पशुपालकों को दी सलाह

वहीं, पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. ओपी सिंह ने गांव कनेक्शन टीम को धन्यवाद दिया कि उनकी वजह से मुझे गांव वालों को पशुओं के बारे में जानकारी देने का मौक़ा मिला। उन्होंने बताया कि पशुओं की सुरक्षा कैसे करें और पशुओं से दूध निकलने का सही तरीका क्या है। उन्होंने पशु के बच्चे का जन्म कैसे हो, उसकी सही विधि बताई और साथ ही घर-घर जाकर लोगों के जानवरों का इलाज किया।

झोलाछाप डॉक्टर से बचें पशुपालक

उन्होंने गांव में एक गाय जो एक महीने से बीमार थी और उसको कोई भी दवा फायदा नहीं कर रही थी। पशुपालक जब अपनी गाय लेकर शिविर में आया तो डॉ. ओपी सिंह ने उसका तुरन्त इलाज किया और कहा कि आप लोग झोला छाप डाक्टर से इलाज मत करवाओ। सरकार इतनी सुविधाएँ दे रही हैं, उनका लाभ लें।

बच्चों ने कागज में भरे रंग

स्वास्थ्य शिविर कैम्प में डॉ. ज्योत्सना तिवारी और डॉ. शुभ्रा यादव ने गांव में कुछ महिला की बीमारी और कुछ पुरुष और प्राइमरी के बच्चों की स्वास्थ्य जाँच करके दवा वितरण की। वहीं गांव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर प्राइमरी के बच्चों मे ड्राइंग प्रतियोगिता करवाई गई। वही गांव के किसानों ने गांव कनेक्शन अखबार के बारे में बताया कि गाँव कनेक्शन अखबार ने न सिर्फ गाँव की समस्याओं को प्रमुखता से उठाया है, बल्कि किसानों के लिए भी मार्गदर्शन की भूमिका निभाई है।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top