दबंगों ने रोका नहर का पानी, 10 हजार से अधिक किसान परेशान 

दबंगों ने रोका नहर का पानी, 10 हजार से अधिक किसान परेशान माइनर का पानी रुकने से किसानों को हो रही परेशानी।

मोहम्मद आमिल, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

एटा। दबंगों ने एसडीएम के नाम का खौफ दिखाकर नहर से निकलने वाले माइनर का पानी रोक दिया, जिससे 14 गाँवों के 10 हजार से अधिक किसानों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पानी रुकने से करीब 2500 बीघा से अधिक खेतों में सिचाईं के लिए प्रभावित हो गए। परेशान किसानों ने आलाधिकारियों से नहर का पानी माइनर में छोड़ने की गुहार लगायी।

किसानों की गुहार पर जिलाधिकारी अमित किशोर ने सिंचाई विभाग के एक्सईएन रामकिशन को तलब किया। एक्सईएन ने विवादित मामला पड़ोसी जनपद फीरोजाबाद से जुड़ा बताया है। जनपद की जलेसर विकासखण्ड क्षेत्र के नूहखेड़ा में फिरोजाबाद से गुजरने वाली नहर से माइनर जुड़ा हुआ है। इसमें नहर का पानी आने से क्षेत्र के किसानों की फसलों को लाभ होता है। इस माइनर से जलेसर ब्लॉक के गाँव गहेतू, खरौरा गढ़िया, घनश्यामपुर, नीलगढ़ी, खिदरपुर, कुठिया, शाहपुर, हंसपुर, रसीदपुर, लालपुर, पिपेहरा, ब्रह्मनगर, गहराना, भूढ़ गड्ढा, सेवा नगला, मजराउ जुड़े हुए हैं।

ये भी पढ़ें:- आलू किसानों को मिली बड़ी राहत, सरकार अपने खजाने से खर्च करेगी 100 करोड़ रुपए

पिछले एक महीने से क्षेत्र के दबंग लोगों ने एसडीएम जलेसर का नाम लेकर नूहखेड़ा नहर से निकलने वाले माइनर का साइफन मिट्टी डालकर बन्द कर दिया है, जिससे माइनर में पानी आना बन्द हो गया है, जिसकी शिकायत ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से की।

ये भी पढ़ें :- यूपी में बाढ़ ने बिगाड़ दिया कृषि विभाग का गणित, अब तक हजारों एकड़ फसल तबाह

गाँव गहेतू निवासी शिकायतकर्ता मनोज कुमार यादव(42वर्ष) ने बताया, "क्षेत्र के दबंगों ने माइनर के साइफन पर रातों रात में मिट्टी डालकर बन्द कर दिया है, जिसके कारण माइनर में एक महीने से पानी नही आ रहा। अभी धान की फसल क्षेत्र के किसानों ने की है।”

ये भी पढ़ें:- देखिए योगी जी, आपके डिप्टी सीएम के पड़ोस में क्या हो रहा है

इन 14 गाँवों के बारे में जानकर आप का भी यहां एक बार घूमने का मन करेगा

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top