त्योहार पर भी ग्रामीणों को नहीं मिली राशन

त्योहार पर भी ग्रामीणों को नहीं मिली राशनप्रतीकात्मक फोटो।

कम्यूनिटी जनर्लिस्ट: मुन्ना

फफूंद (औरेया)। विकासखण्ड भाग्यनगर क्षेत्र के ग्राम भोनकपुर के ग्रामीणों को दीपावली त्योहार में डीलर ने सरकारी कोटे का राशन नहीं बांटा है। राशन न मिलने से ग्रामीण परेशान हैं। ग्रामीणों की मानें तो प्रधानपति की मिलीभगत से डीलर मनमानी कर रहा है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी महोदय से जाँचकर करवाकर राशन बंटवाये जाने की मांग की है।

राशन डीलर योजना को लगा रहे पलीता

जहां सरकार गरीबों को सस्ता राशन मुहैया कराने के लिये खाद्य सुरक्षा अधिनियम बनाकर राशन कार्ड धारकों को सस्ते दर पर गेहूं, चावल, मिटटी का तेल आदि सामान उपलब्ध करा रही है, वहीं राशन डीलर सरकार की इस योजना को पलीता लगाने में लगे हुये हैं। ब्लाक भाग्यनगर की ग्राम पंचायत भोनकपुर के ग्रामीण अपने कोटेदार की मनमानी से परेशान हैं। ग्रामीणों ने बताया कि हमारे गांव का कोटा काजीपुर गाँव में है। कोटेदार शंकरदयाल अपनी मनमानी चलाकर हम सभी भोनकपुर वासियों को राशन नहीं देता है। जब उससे कुछ कहो तो वही गाली गलौज कर भगा देता है।

पात्र होते हुए भी सूची से नाम गायब

दीपावली का त्योहार नजदीक होने पर भी राशन डीलर ने राशन नहीं बांटा है लोगों का कहना है कि इसमें प्रधानपति की मिलीभगत होने से कोटेदार की मनमानी चरम पर है। कुछ लोगों का तो पात्र होते हुये भी सूची से नाम गायब है और जिसका नाम सूची में है, उनको राशन ही नहीं मिल रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि लगभग 4 माह से राशन नहीं मिल रहा है और कोटेदार की मनमानी से सब तंग आ चुके हैं। कोटेदार और सप्लाई इंस्पेक्टर की मिलीभगत के चलते कोई कार्यवाही करने से कतरा रहा है।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

इस बारे में एसडीएम सदर राजेन्द्र कुमार से इस सम्बन्ध में बात की तो उन्होंने बताया कि कुछ अपात्रों के साथ पात्र लोगों का भी नाम सूची से निरस्त हो गया है, लेकिन जिसका नाम सूची में है, उसे राशन मिलेगा। उन्होंने कहा कि हम इसकी जाँच कराकर डीलर के विरूद्ध कार्यवाही करेंगे। ग्रामीणों की परेशानी पर पूरा ध्यान दिया जायेगा। लालसिंह, महेश, प्रेम कुमार, वैजनाथ, जबर सिंह, देवेन्द्र, गुड्डी देवी, सोनेलाल, ऊदल सिंह, लखन सिंह, दर्शन सिंह, महेशचन्द्र, कालीचरन आदि तमाम ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से जाँच कराकर राशन बंटवाये जाने की मांग की हैं।

"This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org)."

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top