मूंगफली की फसल से हो रहा किसानों को फायदा

मूंगफली की फसल से हो रहा किसानों को फायदाखेतों से खोदी गई मूंगफली की फसल को साफ करते किसान। 

स्वयं प्रोजेक्ट

कन्नौज। जिले में अब मूंगफली की फसल खूब होने लगी है। ऐसे में किसान अब अन्य कई फसलों को छोड़कर मूंगफली पर अधिक ध्यान देने लगे हैं। इसका एक बड़ा कारण यह भी है कि इसकी फसल से किसानों को अच्छा मुनाफा निकल आता है। क्षेत्र में मूंगफली की फसल कई चक्रों में होती ही रहती है।

सर्दी आते-आते बढ़ेगी खपत

वर्तमान समय में खेतों से मूंगफली की खुदाई तकरीबन समाप्त हो चुकी है। खुदाई का सिलसिला कई महीनों पहले शुरू हुआ था। जो किसान फसल की खुदाई कर रहे हैं, वह आलू की फसल भी कर सकते हैं। किसान अब एक सीजन में तीन या उससे अधिक फसलें करने का प्रयास करता है। साथ ही अधिक मुनाफा वाली फसलों की ओर अग्रसर हो रहा है। कुछ सालों में मूंगफली की डिमांड भी बढ़ी है। सर्दी आते-आते खपत और बढ़ जाएगी।

मूंगफली की फसल में नुकसान न के बराबर

जिला मुख्यालय से करीब 18 किमी दूर स्थित तहसील तिर्वा क्षेत्र के बरधइया गांव निवासी किसान हरनाथ सिंह ने बताया कि आलू में तो भरोसा नहीं कि फायदा होगा या नुकसान, लेकिन मूंगफली की फसल में नुकसान के मौके ना के बराबर होते हैं। 65 वर्षीय किसान श्रीकृष्ण का कहना है कि मूंगफली अब तो बारहमासी फसल हो गई है। कभी भी मूंगफली उगाई जा सकती है। इस समय फसल तैयार हो चुकी है। अब उसको बाजार में बिक्री करने के लिए खोद रहे हैं।

सही मिल रहा है किसानों को रेट

खेतों में परिवार समेत जुटे कुछ अन्य किसानों ने बताया कि बंटाई पर खेती करते हैं। आस-पास क्षेत्रों में मूंगफली अच्छी मात्रा में हुई है। रेट भी सही मिल रहा है। किसान दयाराम ने बताया कि किस फसल में नुकसान हो जाए और किसमें फायदा, यह कहा नहीं जा सकता। मौसम अगर साथ है तो अच्छा, नहीं तो फसल चौपट। 18 वर्षीय किसान गुखराम का कहना है कि मूंगफली की फसल बंटाई पर की, लेकिन घाटा होगा ऐसा नहीं लगता है। फसल अच्छी हुई है और रेट भी सही चल रहा है।

इन दिनों बिक रही होरा मूंगफली

वर्तमान समय में होरा वाली यानि हल्की भुनी मूंगफली 100-120 रूपये किलो बिक रही है। ठेली पर बिकने वाली मूंगफली गर्मियों में भी पसंद की जाती है। सर्दियों में तो भुनी हुई बड़े दानों की मूंगफली आ जाती है।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top