यूपी : बजट के अभाव में बंद कनहर सिंचाई परियोजना 

यूपी : बजट के अभाव में बंद कनहर सिंचाई परियोजना कनहर सिंचाई परियोजना 

सोनभद्र। भ्रष्टाचार के नाम पर पिछली सरकार के कामों को रोकने का असर कनहर सिंचाई परियोजना पर भी देखने को मिल रहा है, क्योंकि पूर्ववर्ती सरकार में हुए निर्माण कार्यों की गुणवत्ता व आवंटित धन की मॉनिटरिंग शासन अपने तरीके से कर रहा है। इसी के तहत फिलहाल निर्माण के लिए नए बजट पर रोक लगा दी गई है। वित्तीय वर्ष में नए बजट के लिए सिंचाई विभाग द्वारा फाइलों को पिछले महीने मुख्यमंत्री के पास पहुंचाया गया, लेकिन अभी तक कोई सकारात्मक असर देखने को नहीं मिला।

ये भी पढ़ें-बैंक का नोटिस : वसूलीनामा यानि कर्ज़दार किसानों की आत्महत्या का बुलावा

निर्माणाधीन कनहर सिंचाई परियोजना का निर्माण पूर्व में कनहर व पांगन नदी में बाढ़ की वजह से ठप रहा और अब बजट न होने से ठप है। सिंचाई विभाग के अधिकारी व कार्यदाई संस्था के अधिकारी पिछले एक माह से शासन स्तर से बजट पास होने की बाट जोह रहे हैं। बजट के लिए जिले के वरिष्ठ नेताओं व स्थानीय जनप्रतिनिधियों के प्रयास भी अभी तक असफल रहे हैं। कई बार सिचाई मंत्री को बजट के लिए पत्र भी सौंपा गया है। बजट के आभाव में करीब 54 फीसदी हुए निर्माण कार्यों को आगे बढ़ाने के लिए बजट की आवश्यकता है। बजट जितना लेट होगा, निर्माण कार्य में भी उतनी ही देरी होगी। साथ ही विस्थापितों का अलग से विरोध झेलना पड़ेगा।

मुख्य अभियन्ता कनहर सिंचाई परियोजना गोविन्द चंद्र ने बताया, “कनहर सिंचाई परियोजना के लिए वर्तमान में बजट जीरो है। अनुपूरक बजट में कनहर निर्माण के लिए बजट शासन स्तर से मिलने का अनुमान है, जिसके लिए प्रयास जारी है।”

इस सम्बन्ध में भाजपा जिला महामंत्री विपिन बिहारी ने बताया, “कनहर निर्माण के लिए बजट को लेकर माननीय मुख्यमंत्री व सिंचाई मंत्री को पत्र भेजा गया है। साथ ही मुलाकात के दौरान जल्द बजट पास करने के लिए अनुरोध भी किया गया।”

ये भी पढ़ें-कर्जमाफी योजना का असल मुद्दा : जिन्होंने समय पर चुकाया कर्ज, उन्हीं ने उठाया नुकसान

क्रय-विक्रय चेयरमैन जुबेर आलम ने बताया, “कनहर सिंचाई परियोजना बन जाने से इस क्षेत्र का 108 गाँव को सिंचाई के लिए किसानों का सबसे बड़ा तोहफा है, जो पूर्व मुख्यमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट था। सपा सरकार के सिचाई पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने इसकी बुनियाद रखी, पर वर्तमान सरकार बदले की भावना रखते हुए निर्माण कार्य को रोकने पर मजबूर किया है।”

किसान प्रयाग प्रसाद निवासी धनौरा ने कहा, “कनहर सिंचाई परियोजना पूर्णरूप से तैयार हो जाती है तो इस क्षेत्र में जलस्तर ऊपर हो जाएगा, जिससे सिंचाई के लिए नहरों में पानी बराबर मिलता रहेगा। साथ ही जहां नहरों की सुविधा नहीं है, सरकारी कुओं से पम्प के माध्यम से सिंचाई की जा सकती है। वहीँ कृषक रमेश यादव निवासी बोम का कहना कि परियोजना तैयार होने से सभी खेतों को उपयोग किया जा सकता है, जो इस समय जमीन में पानी नहीं होने के कारण इस्तेमाल में नहीं लाए जा रहे।”

कनहर सिंचाई परियोजना पूर्णरूप से तैयार हो जाती है तो इस क्षेत्र में जलस्तर ऊपर हो जाएगा, जिससे सिंचाई के लिए नहरों में पानी बराबर मिलता रहेगा।

प्रयाग प्रसाद, किसान

कनहर सिंचाई परियोजना के लिए वर्तमान में बजट जीरो है। अनुपूरक बजट में कनहर निर्माण के लिए बजट शासन स्तर से मिलने का अनुमान है, जिसके लिए प्रयास जारी है।

गोविन्द चंद्र, मुख्य अभियन्ता, कनहर सिंचाई परियोजना

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top