#स्वयंफ़ेस्टिवल: युवा आगे आएं, घर की तरह गंगा को भी रखें साफ 

#स्वयंफ़ेस्टिवल: युवा आगे आएं, घर की तरह गंगा को भी रखें साफ गंगा नदी तट मेहंदीघाट के किनारे साफ करते चौ. चंदन सिंह महाविद्यालय कनपटियापुर गाँव कन्नौज के छात्र-छात्राएं।

स्वयं डेस्क/ कम्युनिटी जर्नलिस्ट : अजय मिश्रा (32 वर्ष)

कन्नौज। गाँव कनेक्शन फाउंडेशन की ओर से चल रहे सात दिवसीय स्वयं फेस्टिवल के अंतिम दिन मेहंदीघाट पर स्वच्छता अभियान चला। छात्र-छात्राओं ने कहा कि गंगा नदी के साथ ही पूरे हिन्दुस्तान में सफाई रहनी चाहिए। इसके लिए युवाओं को आगे आएं।

गुरूवार को कड़ाके की सर्दी और कोहरे के बीच कनपटियापुर गाँव स्थित चौ. चंदन सिंह महाविद्यालय कन्नौज के छात्र-छात्राएं मेहंदीघाट पहुंचे। यहां उन्होंने झाडू लेकर नदी तट को साफ किया। सीढ़ियों पर भी फैली गंदगी दूर की। कई छात्र-छात्राओं और महाविद्यालय के स्टाफ ने भी तन-मन से गाँव कनेक्शन के अभियान को सफल बनाया।

सांसद प्रतिनिधि नवाब सिंह यादव ने खुद तट को झाडू लेकर साफ किया। साथ ही अनुराग मिश्र, प्राचार्य डा ओपी शर्मा, डा आरडी वाजपेई, सुशील, सोनी, प्रज्ञा, आरती, संजय दुबे और अमित मिश्र ने अभियान को सफल बनाया।

स्वयं उत्सव के तहत जो सफाई अभियान चल रहा है, उसके लिए चौ. चंदन सिंह महाविद्यालय का चयन किया गया यह बड़े ही गर्व की बात है।
उमेश द्विवेदी शिक्षक

बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा दीपाली ने कहा कि गंगा स्वच्छ अभियान अच्छा है। गंगा साफ रहनी चाहिए।

एमए फाइनल वर्ष की अनामिका ने बताया कि अभियान अच्छा है। गंगा को साफ-सुथरा रखना चाहिए। सर्दी के बाद भी अभियान चल रहा है उनको अच्छा लगा रहा है।

बीएससी प्रथम वर्ष की अपूर्वा ने बताया कि देश युवाओं का है। युवा आगे आए और स्वच्छता अभियान को साकार करें।

एमए फाइनल वर्ष की पूजा कुशवाहा ने बताया कि अच्छा काम है। युवा देश में सफाई अभियान को सफल बनाएं। हर युवा इसके लिए आगे आए। खुद सफाई करें, तभी देश अच्छा बनेगा।

एमए फाइनल की ही संगीता ने कहा कि गंगा को माता का दर्जा दिया गया है, इसलिए इसे गंदा न करें। कूड़ा डालना अधर्म है। कूड़ा को हटाएं, तभी निर्मल गंगा होगी।

बीए प्रथम वर्ष की साक्षी कटियार ने बताया कि गंगा मइया हैं। इससे कई लोगों की प्यास बुझती है। कई लोग पानी पीते हैं। अगर गंदगी फैलाई जाएगी तो बीमारियां फैलेंगी। गाँव कनेक्शन का अभियान अच्छा है। इससे हिन्दुस्तान की सफाई होगी।

बीए प्रथम वर्ष की छात्रा शिल्पी ने कहा कि जिस तरह घर में कूड़ा रखने के लिए एक स्थान या बर्तन होता है, उसी तरह गंगा मइया के आसपास कूड़ा न फैलाया जाए। निर्धारित स्थान पर कूड़ा डालकर उसे हटाया जाए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो लोग बीमार पड़ेंगे।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top