बाराबंकी में बैंक से पैसे निकालने आई महिला के बेटे को पुलिसकर्मियों ने पीटा, सिपाही और दरोगा लाइन हाजिर 

बाराबंकी में बैंक से पैसे निकालने आई महिला के बेटे को पुलिसकर्मियों ने पीटा, सिपाही और दरोगा लाइन हाजिर बाराबंकी के टिकैतगंज कस्बे के इसी बैंक में हुई घटना।

स्वयं डेस्क

बाराबंकी। अपने इलाज के लिए बैंक में जमा अपना ही पैसा निकालने आयी बुजुर्ग महिला से पहले तो पुलिसकर्मी ने बदसलूकी की और जब महिला के बेटे ने इसका विरोध किया तो पुलिसकर्मियों ने उस युवक को बैंक के अंदर से निकाल कर सरेआम जमकर उसकी पिटाई की। इतना ही नही, पुलिसकर्मियों ने जबरदस्ती पीड़ित युवक को अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर थाने भी ले गये। इस दौरान भी उन लोगों ने रास्ते में भी उसकी पिटाई की। पीड़ित परिवार वालों की शिकायत पर एसपी बाराबंकी ने आरोपी सिपाहियों को लाइन हाजिर करते हुए मुकदमा दर्ज करवा जांच शुरू कर दी है।

टिकैतगंज कस्बे का मामला

मामला बाराबंकी जिले के कुर्सी थाना इलाके के टिकैतगंज कस्बे का है, जहां बैंक ऑफ इंडिया की टिकैतगंज शाखा में इसी कस्बे की रहने वाली 65 वर्षीय लक्ष्मी अपने बेटे धर्मेन्द्र के साथ सुबह-सुबह अपने इलाज के लिए पैसे निकालने बैंक की लाइन में लगी थी। अपने माँ की देखरेख और अंगूठे लगवाने की मदद के लिए उनका बेटा धर्मेन्द्र भी उनके ही पीछे लगा हुअ था। बैंक मैनेजर अतुल कुमार सिंह के अनुसार, धर्मेन्द्र उनके वहाँ का करेन्ट एकाउन्ट का खाता धारक है।

गुस्साए लोगों ने जाम की लखनऊ-कुर्सी रोड सड़क

मैनेजर का कहना है कि पुलिसकर्मी अजय कुमार सिंह वा धर्मेन्द्र के बीच तू-तू,मैं-मैं होने लगी। उसके बाद उन्होंने सभी को बैंक के बाहर कर दिया। वही धर्मेन्द्र की माँ लक्ष्मी का कहना है कि बैंक के बाहर आरोपी सिपाही अजय सिंह ने उनके बेटे की डंडों और लातघूसों से जमकर पिटाई की और उन्हें जबरदस्ती मोटरसाइकिल पर दो पुलिस कर्मचारियों ने बैठा लिया और थाने ले गये। वही धर्मेन्द्र के पिता ननकू का कहना है कि थाने ले जाने के दौरान भी उनके बेटे की रास्ते में पिटाई की। इस दौरान गुस्साए लोगों ने लखनऊ-कुर्सी रोड जाम कर दिया।

सिपाही और दरोगा लाइन हाजिर, मुकदमा दर्ज

मामले का संज्ञान लेने के बाद जिले के एसपी राजू बाबू सिंह ने पिटायी के आरोप में सिपाही अजय सिंह और दरोगा अरविन्द कुमार शर्मा को लाइन हाजिर करते हुए मुकदमा दर्ज करवा दिया है। मामले की जांच एएसपी कुंवर सिंह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जांच हो रही है। एसपी राजू बाबू सिंह द्वारा की गयी ये कार्रवाई शायद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का खौफ ही था, जिसमें बैंक की लाइन में लगे लोगों पर पुलिस कर्मचारी ने लाठीडंडों से पिटायी करने के आरोप में वहां के एसपी को भी कुर्सी से हाथ धोना पड़ा था और इसी के चलते आनन फानन में एसपी राजू बाबू सिंह ने अपनी कुर्सी बचाने के लिए आरोपी सिपाही अजय सिंह वा दरोगा अरविन्द कुमार शर्मा पर कार्रवाई की। लेकिन घटनास्थल के अधिकांश लोगों का कहना है दरोगा अरविन्द कुमार शर्मा निर्दोष थे। वो तो सिर्फ मामले को शान्त करवा रहे थे।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top