रेशम पालकों को मिला रेशम उत्पादकता पुरस्कार

रेशम पालकों को मिला रेशम उत्पादकता पुरस्काररेशम पालकों को मिला पुरस्कार।

स्वयं डेस्क प्रोजेक्ट

लखनऊ। प्रदेश में रेशम उद्योग के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार बढ़ाने और रेशम कोया उत्पादित करने वाले कीटपालकों द्वारा लोगों को कीटपालन संबंधी स्वरोजगार के प्रति जागरूक करने पर हाल में इन रेशम कीट पालकों को डॉ. राम मनोहर लोहिया रेशम उत्पादकता पुरस्कार से नवाजा गया।

किसानों को कर रहे प्रेरित

प्रदेश में रेशम उत्पादन को बढ़ावा मिलने के बारे में वस्त्र उद्योग एवं रेशम उद्योग उत्तर प्रदेश, मंत्री महबूब अली ने बताया '' प्रदेश में उच्च गुणवत्ता के बाईवोल्टीन रेशम कोया के उत्पादन को बढ़ावा दिया जाए और गुणवत्तायुक्त बाईवोल्टीन प्रजाति के ए-ग्रेड के रेशम कोया उत्पादन तथा उससे 3ए-ग्रेड का रेशम धागा उत्पादित किए जाएं, इसके लिए किसानो को प्रेरित किया जा रहा है।''

इनको मिला पुरस्कार

पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में प्रदेश भर में चयनित किए गए 47 सर्वोत्कृष्ट रेशम कोया उत्पादकों एवं धागाकरण उद्यमियों को पुरस्कार स्वरूप 11,000 हज़ार की धनराशि और प्रतीक चिन्ह दिया गया। वितरित पुरस्कारों में शहतूती क्षेत्र में 28, टसर क्षेत्र में 08, अरण्डी क्षेत्र में 08 कोया उत्पादकों एवं धागाकरण क्षेत्र में 03 उद्यमी शामिल थे। कार्यक्रम में सिल्क ट्रेडर्स द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी के साथ रेशम विभाग के द्वारा प्रदर्शित रेशम कीटपालन एवं उत्पादन का प्रदर्शन और सेरीकल्चर इन्डस्ट्री में प्रयोग में लाए जाने वाले कीटपालन उपकरण, फार्म उपकरणों का प्रदर्शन भी किया गया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top