#स्वयंफ़ेस्टिवल: सोनभद्र मुख्यालय से 130 किलोमीटर दूर दुद्धी में ग्रामीणों व आदिवासियों में स्वयं फ़ेस्टिवल की धूम 

#स्वयंफ़ेस्टिवल: सोनभद्र मुख्यालय से 130 किलोमीटर दूर दुद्धी में ग्रामीणों व आदिवासियों में स्वयं फ़ेस्टिवल की धूम सोनभद्र के दुद्धी ब्लाक के लल्लन प्रसाद विद्यालय गाँव बघाणु में स्वयं फ़ेस्टिवल।

दुद्धी (सोनभद्र)। सोनभद्र में तीन दिसम्बर को ब्लाक दुद्धी के बघाणु गाँव में पावर एंजल के बारे में बताया गया। इसके साथ ही स्वास्थ्य शिविर सहित कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

देश के पहले ग्रामीण अखबार गाँव कनेक्शन की चौथी वर्षगांठ पर 2-8 दिसंबर तक उत्तर प्रदेश के 25 ज़िलों में स्वयं फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। आपका शहर सोनभद्र भी इन 25 जिलों में शामिल है।

सोनभद्र मुख्यालय से 130 किलोमीटर दूर दुद्धी ब्लाक जिसका काफी हिस्सा आदिवासी क्षेत्र है उसी के बीच लल्लन प्रसाद संस्थान विद्यालय गाँव बघाणु में स्वयं फ़ेस्टिवल के दूसरे दिन ग्रामीणों के स्वास्थ्य सम्बंधित कई जांचें की गई। इस कार्यक्रम में दूर दूर से आए ग्रामीणों ने हिस्सा लिया और अपने स्वास्थ्य की जांच कराई।

इस कार्यक्रम में चिकित्साधिकारी डॉ यूपी पाण्डेय ने स्वास्थ विभाग की टीम द्वारा शिविर लगाया गया। डाक्टर टीम ने ग्रामीणों के बलगम, मलेरिया, टायफायड, टीबी सहित कई बीमारियों की जांच किया गया और जांच के परिणाम आने के बाद दवा का वितरण किया गया। इसमें प्रमुख रूप से डॉ संजय जायसवाल, डॉ राजेश सहित कई और लोग मौजूद रहे। डॉ संजय जायसवाल ने सफाई पर विशेष रूप से ग्रामीणों को समझाया और कहा कि होने वाले बीमारियां पर नियंत्रण रखना है तो साफ सफाई पर ध्यान दें।

क्षेत्राधिकारी मनमोहन पाण्डेय अपनी टीम के साथ 100 और 1090 के बारे में विस्तृत जानकारी दिया और ग्रामीणों से कहा कि किसी भी प्रकार की कोई परेशानी हो तो डायल 100 पर जानकारी दें ताकि न्याय दिलाने में प्रशासन सफल हो सके। उन्होंने लड़कियां और महिलाओं की सुरक्षा के बारे में पावर एंजल, 1090 के बारे में कई जानकारियां दी। पुलिस की टीम व अभय सिंह, भीम कुमार, राकेश गुप्ता आदि सहित मौजूद रहे।

विद्यालय के प्रधानाचार्य राकेश अग्रहरि ने सभी छात्र छात्राओं को पॉवर एंजल की विशेषता बताई और उन्हें प्रेरित किया की वह पावर एंजल जैसी जिम्मेदारी निभाने को आगे आ सकें।

ब्लाक क्षेत्र के बघाणु गाँव में लल्लन प्रसाद संस्थान विद्यालय में माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्जवलित कर शुभारम्भ किया गया। उसके बाद छात्राओं ने स्वागत गीत गाकर अतिथियों का पुष्प भेट किया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top