परिषदीय स्कूलों में नौनिहालों को बताया जाएगा महामारी का कारण

परिषदीय स्कूलों में नौनिहालों को बताया जाएगा महामारी का कारणफोटो: विनय गुप्ता

अजय मिश्र (कम्यूनिटी जर्नलिस्ट)

कन्नौज। प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्कूलों के बच्चों को अब प्रार्थना के बाद डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया फैलने के कारण और उसके बचाव के बारे में जानकारी दी जाएगी। ग्राम पंचायतों में विशेष अभियान चलाकर सफाई कराई जाएगी। सफाईकर्मी कम हैं तो श्रमिकों का सहयोग लिया जाएगा। इन बीमारियों को पहले ही महामारी घोषित किया जा चुका है। प्रमुख सचिव ने इस बाबत मंडलायुक्त और डीएम समेत संबंधित अधिकारियों को शासनादेश जारी कर दिया है।

प्रार्थना के बाद डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया के बारे में दी जाएगी जानकारी

प्रमुख सचिव चंचल तिवारी ने भेजे आदेश में कहा है कि डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया आदि मच्छरजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए प्राथमिकता से कार्रवाई की जाए। ग्राम सभा में एकत्र पानी की निकासी की व्यवस्था हो, जिससे मच्छर और उनके लार्वा न पनपे। उन्होंने दवाओं के छिड़काव कराने के आदेश भी दिए हैं। ग्राम पंचायत अधिकारियों से कहा है कि विशेष सफाई अभियान जनसहभागिता से कराएं। सफाईकर्मी भी अपनी-अपनी ग्रामसभा में कूड़ा-कचरा हटाने, पानी ठहरे की निकासी, नालियों की नियमित सफाई और समुचित पर्यवेक्षण की बात कही है। प्रमुख सचिव ने ग्रामवासियों को एकत्र दूषित पानी की निकासी और सफाई पर विशेष ध्यान देने, मच्छरजनित बीमारियों की रोकथाम के लिए जागरूकता अभियान चलाने को भी कहा है। पहले भी शासनादेश में सफाईकर्मियों को लगाकर ग्राम पंचायतवार दो से पांच दिन का रोस्टर बनाकर गंदी गलियों, बंद नालियों एवं हैंडपंपों के चारों ओर व अन्य पेयजल स्रोत के आसपास तथा तालाब के इनलेट की सफाई करने का फरमान जारी हुआ है।

दीवार लेखन और रैली

ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति, सभी ग्राम सभा, में आयोजित अभियान के दौरान प्रधान के सहयोग से विशेष बैठक में कूड़ा निस्तारण, जलभराव, गड्ढे व नालियों तथा शौचालय की स्थिति व साफ-सफाई आदि पर विशेष ध्यान देने के लिए जागरूकता अभियान को भी कहा है। साथ ही दीवार लेखन, समूह बैठक, स्कूली बच्चों की रैली, आशा बहुओं, एएनएम, एडब्ल्यूडब्ल्यू, आंगनबाड़ी कार्यकत्री की पूरी सहभागिता करने का भी आदेश है।

यहां से होगी बजट व्यवस्था

अभियान को सफल बनाने के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर मनरेगा 14वें वित आयोग, राज्य वित्त आयोग, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, स्वास्थ्य विभाग, बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग के तहत धनराशि की व्यवस्था की गई है। इसमें लापरवाही पर कार्रवाई भी की जाएगी।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top