अलीगढ़ के दो अस्पताल अब बनेंगे ई-हॉस्पिटल 

अलीगढ़ के दो अस्पताल अब बनेंगे ई-हॉस्पिटल फोटो साभार: इंटरनेट 

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

अलीगढ़। जिले के मलखान सिंह जिला चिकित्सालय और पं. दीनदयाल उपाध्याय चिकित्सालय राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना के तहत ई-हॉस्पिटल की सुविधा से लैस हो जाएंगे। इसके लिए 61.38 लाख रुपए की धनराशि जारी कर दी गई है, उत्तर प्रदेश के 19 जनपदों के कुल 27 अस्पताल ई-हॉस्पिटल की सुविधा में शामिल हैं।

ई-हॉस्पिटल परियोजना के क्रियान्वयन कमेटी की अध्यक्षता करते हुए मुख्य चिकित्सा अधीक्षक रामकिशन ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत प्रथम चरण में 19 जनपदों के 27 चिकित्सालयों को ई-हॉस्पिटल बनाये जाने के लिए चयन किया गया है। उन्होंने बताया कि परियोजना के तहत मलखान सिंह जिला चिकित्सालय को ई-हॉस्पिटल बनाने के लिये 31.69 लाख रूपये एवं प0 दीनदयाल उपाध्याय चिकित्सालय के लिये 29.69 लाख रुपए की धनराशि प्राप्त हो गयी है।

ये भी पढ़ें- अब मोबाइल और ईमेल पर मंगाएं मेडिकल रिपोर्ट

ई-हॉस्पिटल में ये होंगी ख़ास सुविधाएं

  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत ई-हॉस्पिटल में कोई भी व्यक्ति इंटरनेट के माध्यम से घर बैठे रजिस्ट्रेशन करा सकेगा।
  • ई-हॉस्पिटल में आधार नम्बर से भी लिंक किया जाएगा, आनलाइन रजिस्ट्रेशन सिस्टम ओपीडी, आईपीडी, बिलिंग एवं ई-ब्लड बैंक माड्यूल की भी व्यवस्था होगी।
  • मरीज के इलेक्ट्रानिक हेल्थ रिकार्ड की पूर्ण सूचना कम्प्यूट्रीकृत भी की जा सकती है

जानें क्या है ई- हॉस्पिटल

ऑनलाइन पंजीकरण प्रणाली आधार नंबर पर आधारित देश के विभिन्न अस्पतालों को जोड़ने के लिए एक प्रयास है जो डॉक्टर से मिलने के लिए समय की सेवा उपलब्ध कराती है । ये सेवा वहां उपलब्ध की जा सकती है जहाँ ‘अस्पताल प्रबंधन सूचना प्रणाली (एच एमआईएस )’ द्वारा काउंटर आधारित ‘बाहरी रोगी विभाग पंजीकरण एवं अपॉइंटमेंट प्रणाली’ पहले से लागू है। ये सेवा एन.आई.सी. की क्लाउड सेवाओं के माध्यम से उपलब्ध कराई गई है। ये सेवा उपभोक्ता के आधार नंबर पर आधारित व्यक्तिगत जानकारी केवाईसी का प्रयोग कर विविध अस्पतालों के विविध विभागों के साथ अपॉइंटमेंट की सुविधा उपलब्ध करवाती है ।

यदि रोगी आधार के साथ पंजीकृत है तो यह रोगी के नाम का प्रयोग कर पंजीकरण करता है।अन्यथा रोगी अपने मोबाईल नंबर द्वारा पंजीकरण कर सकता है। आधार नंबर पर पंजीकृत नए रोगियों को अपॉइंटमेंट के साथ साथ ‘एकमात्र स्वास्थ्य पहचान अंक (यूएचआईडी)’ भी दिया जायेगा। यदि आधार नंबर पहले से ही ‘एकमात्र स्वास्थ्य पहचान अंक (यूएचआईडी)’ के साथ जुड़ा हुआ है तब केवल अपॉइंटमेंट नंबर दिया जायेगा और ‘एकमात्र स्वास्थ्य पहचान अंक (यूएचआईडी)’ वही रहेगा।

ये भी पढ़ें- ‘सघन मिशन इंद्रधनुष’ बचाएगा यूपी में बच्चों की जान

जानें इसकी विशेषताएं

सरल अपॉइंटमेंट प्रक्रिया

अस्पताल में आपके प्रथम पंजीकरण व डॉक्टर से अपॉइंटमेंट को अब ऑनलाइन एवं सरल बना दिया गया है। आप केवल आधार नंबर का प्रयोग कर स्वयं को सत्यापित करें, उसके बाद अस्पताल व विभाग के नाम, अपॉइंटमेंट हेतु तिथि का चयन करें और तुरंत अपॉइंटमेंट हेतु एसएमएस प्राप्त करे।

डैशबोर्ड

कुल अस्पतालों की संख्या एवं उनके विभागों की संख्या, जिनका अपॉइंटमेंट ऑनलाइन ओ॰ आर॰ एस॰ (ors) के माध्यम से लिया जाना है, उनकी संख्या को डैशबोर्ड में देखा जा सकता है।

अस्पताल जुड़े

जो अस्पताल, रोगियों को ऑनलाइन पंजीकरण एवं अपॉइंटमेंट सुविधा उपलब्ध कराना चाहते हैं, वे ओ॰ आर॰ एस॰ से जुड़ सकते हैं। यह व्यवस्था अस्पतालों को अपॉइंटमेंट प्रक्रिया को आसन बनाने तथा रोगियों के आगमन को सरल बनाने मे सहायक है।

ये भी पढ़ें- अब 104 नंबर पर फोन कर लें डॉक्टरी सलाह

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top