बिना टीके के कैसे होगा स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण? 

बिना टीके के कैसे होगा स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण? स्वास्थ्य कर्मियों का अब तक नहीं हुआ टीकाकरण

श्रीवत्स अवस्थी, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

उन्नाव। स्वाइन फ्लू के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए शासन ने इससे निपटने के इंतजाम दुरुस्त रखने के निर्देश दिए थे। यही नहीं इलाज में लगे स्वास्थ्य कर्मी इस बीमारी की चपेट में न आने पाएं इसके लिए अनिवार्य रूप से उनका टीकाकरण करने के आदेश भी जारी हुए थे। आदेश जारी हुए कई दिन बीत गए हैं, लेकिन स्वास्थ्य कर्मियों का अब तक टीकाकरण नहीं हो सका है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि अब तक जिलास्तर पर बचाव के लिए टीके उपलब्ध ही नहीं कराए गए हैं। प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य प्रशांत द्विवेदी ने आदेश जारी करते हुए कहा था कि एपडमिक टीम का हर हाल में टीकाकरण कर दिया जाए।

ये भी पढ़ें- माहवारी : पुरुषों के लिए भी समझना जरुरी है महिलाएं किस दर्द से गुजरती हैं...

शासन ने टीकाकरण करने के लिए आदेश तो दे दिया लेकिन अब तक किसी भी डॉक्टर या टीम के अन्य सदस्यों को टीका नहीं लग सका है। टीका न लगने की वजह यह है कि जिले में स्वाइन फ्लू के टीके ही मौजूद नहीं है। जिला संक्रामक रोग नियंत्रण कक्ष के नोडल अधिकारी डॉ. आरएस मिश्रा ने बताया, “एक साल पहले टीम के सदस्यों को स्वाइन फ्लू बीमारी से बचाव के लिए टीके लगाए गए थे। इस साल भी आदेश मिला है लेकिन टीके अब तक नहीं लग पाए हैं।”

ये भी पढ़ें- जाने विटामिन्स की कमी हो सकतें हैं कौन - कौन से रोग?

उन्नाव के मुख्य चिकित्साधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि जिला अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाया जा चुका है। जिले में अब तक दो मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। दोनों ही केस में टीम ने गाँव जाकर एक्टीविटी की थी। टीम का टीकाकरण कराने के निर्देश मिले हैं, लेकिन अभी तक टीके प्राप्त नहीं हुए हैं। टीके जैसे ही मिल जाएंगे टीकाकरण करा दिया जाएगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top