Top

You Searched For "राशन"

जब आदमी आपको पहचानता है, मशीन नहीं

जब आदमी आपको पहचानता है, मशीन नहीं

विशाका जॉर्ज/ PARIबेंगलुरु की झुग्गियों में रहने वाले बुजुर्ग, प्रवासी, दिहाड़ी मजदूरी, यहां तक कि बच्चे भी उन लोगों में शामिल हैं जिनकी उंगलियों के निशान मेल न खाने के कारण उन्हें उनका मासिक राशन...

गाँव कनेक्शनगाँव कनेक्शन   1 Jun 2018 3:32 PM GMT

© 2019 All rights reserved.