अनुराग कश्यप बनना चाहते थे वैज्ञानिक, पाना चाहते थे नोबेल पुरस्कार 

अनुराग कश्यप बनना चाहते थे वैज्ञानिक, पाना चाहते थे नोबेल पुरस्कार अनुराग कश्यप, फिल्मकार

मुंबई (भाषा)। अनुराग कश्यप आज भले ही सबसे मशहूर फिल्मकारों में एक हों लेकिन शुरुआत में उनकी बॉलीवुड में आने की कोई योजना नहीं थी, वह वैज्ञानिक बनना चाहते थे। कश्यप ने नोबेल पुरस्कार जीतने के सपने के साथ दिल्ली से प्राणिविज्ञान की पढ़ाई की लेकिन जब उन्हें सिनेमा का पता चला तो उन्होंने आखिरकार यह विचार त्याग दिया।

वर्तमान जागरण फिल्मोत्सव में जब निर्देशक से पूछा गया कि उन्होंने संयोग से या मर्जी से प्राणिविज्ञान की पढ़ाई की, तो उन्होंने कहा, ‘‘मर्जी से। नोबेल पुरस्कार जीतना मेरे बचपन की फंतासी थी। मैंने वैज्ञानिक बनने के लिए पढ़ाई की क्योंकि मैं वैसा कुछ करना चाहता था, लेकिन बाद में मैंने उसे छोड़ दिया।'' फिल्मकार ने कहा कि वैसे उन्होंने कोर्स की पढ़ाई तो की लेकिन जिस तरह की यथार्थवादी सिनेमा से आज वह जुड़े हैं उसपर उसका कोई असर नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘तीसरा साल पूरा करने तक मुझे पता नहीं था कि मैं फिल्मों में आऊंगा। जबतक मैंने कॉलेज पूरा किया तबतक मुझे सिनेमा के बारे में कुछ खास पता नहीं था।'' चौआलीस वर्षीय निर्देशक को रामगोपाल वर्मा ‘सत्या' में सह लेखक के रुप में उपलब्धि मिली। उन्होंने बताया कि वह लिखने के लिए इतने जुनूनी थे वह बिना किसी पैसे या श्रेय के फिल्मों या डेली सोप के लिए लिखते थे।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top