देशभक्ति की थीम पर सजाए जा रहे हैं माता के पंडाल

देशभक्ति की थीम पर सजाए जा रहे हैं माता के पंडाललखनऊ के कैसरबाग स्थित मॉडल हाउस में नवरात्रि के लिए सज रहा पंडाल। फोटो- गाँव कनेक्शन

सुधा पाल

लखनऊ। राजधानी में नवरात्रि के साथ ही दुर्गापूजा पंडाल तैयार करने का इन दिनों जोरों पर हैं। शहर के कई इलाकों में जगह-जगह पंडाल सज रहे हैं। अलग-अलग थीम पर बनाए जा रहे इन पंडाल में इस बार देशभक्ति का जज्बा भी देखने को मिलेगा। खासकर देश में आतंकवाद के खिलाफ आवाज़ उठाने का संदेश देते हुए पंडाल खास तौर पर बनाए जा रहे हैं।

पंडाल में इस साल श्रद्धालुओं को कुछ अलग देखने को भी मिलेगा। देश में जहां आतंकवाद को मुंह तोड़ जवाब देने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की जा रही है वहीं दुर्गा पूजा में भी इस मुद्दे को गंभीरता से लिया गया है। राज्य में कुर्सी के लिए हो रही खींचातानी तथा देश में फैली अशांति के खिलाफ लड़ने के लिए श्रद्धालुओं को यह थीम प्रेरित करेगी। इसके साथ ही गोमतीनगर के विवेकखंड स्थित पंडाल में श्रद्धालु कोलकाता के पारंपरिक मंदिरों के दर्शन कर पाएंगे।

किस तरह सज रहे पंडाल और माता की प्रतिमा

पंडालों को सजाने के लिए थर्माकोल का इस्तेमाल किया जा रहा है। कोलकाता से आए कारीगर अपनी कला का प्रदर्शन करते हुए थर्माकोल पर आकृतियों के द्वारा पंडाल की सजावट में जुटे हुए हैं। करीब 1 महीने से सजावट का काम चल रहा है। माता की प्रतिमा को सजाने के लिए कोलकाता के सोला पेड़ से बने आभूषणों का इस्तेमाल किया जा रहा है साथ ही कपड़े से बने गोटों से भी उनका श्रृंगार किया जाएगा। पॉलीटेक्निक स्थित एचएएल के पंडाल आयोजक शशांक गुप्ता का कहना है कि मां के अस्त्र-शस्त्र को विधि के अनुसार पाठ करके उनका शुद्धीकरण किया जाएगा जिसके बाद उन्हीं से माता को सजाया जाएगा।

17-18 कोलकाता के कारीगर बुलवाए गए हैं जो पंडाल की सजावट में एक महीने से लगे हुए हैं। पंडाल को सलांगपुर स्थित गुजरात के हनुमान मंदिर का रूप दिया गया है। स्वच्छता अभियान व पर्यावरण को देखते हुए पंडाल बनाया जा रहा है।
वीके तिवारी (आयोजक, मॉडल हाउस, कैसरबाग)

आतंकवाद के खिलाफ दी जाएगी बलि

बंगाली क्लब में माता का आह्वान करते हुए इस बार उन्हें बलि दी जाएगी। यह बलि कुछ अलग होगी। जहां किसी जीव को माता के भोग के लिए समर्पित नहीं किया जाएगा। बल्कि उन्हें बलि के रूप में फलों और सब्जियों का चढ़ावा चढ़ाया जाएगा।'

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top