यूपी में डेंगू से त्राहिमाम, लखनऊ में दो की और गई जान, बच्चों ने मुख्यमंत्री से लगाई गुहार

यूपी में डेंगू से त्राहिमाम, लखनऊ में दो की और गई जान, बच्चों ने मुख्यमंत्री से लगाई गुहारडेंगू से हुई मौत के विरोध में लखनऊ के जीपीओ पर प्रदर्शन करते बच्चे। फोटो- महेंद्र पांडेय

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में डेंगू महामारी बनता जा रहा है। सरकारी अस्पतालों में मरीजों की कतारें लगी हुई हैं तो निजी अस्पताल भी अटे पड़े हैं। लखनऊ में शनिवार को भी दो और लोगों की मौत हो गई। इन मौतों का आंकड़ा 200 के पार चला गया है। डेंगू में अपने को खोने वाले लोग अब सड़कों पर उतर रहे हैं। लखनऊ में कैंडल मार्च निकालकर प्रदर्शन किया गया।

डेंगू से सीएमएस के छात्र दिव्यांशु श्रीवास्तव की तीन दिन पहले चरक अस्पताल में मौत हो गयी थी। दिव्यांशु के पिता धीरेन्द्र श्रीवास्तव ने प्रशासन के खिलाफ जीपीओ पर कैंडल मार्च निकाला। वहीं शनिवार को डेंगू ने फिर दो लोगों की जान ले ली। फैजुल्लागंज के मौर्या टोला निवासी सिपाही विमल मौर्या (26 वर्ष) की डेंगू से मौत हो गयी। उनका महानगर के मिडलैंड अस्पताल में इलाज चल रहा था। विमल अमेठी के मुंशीगंज थाने में तैनात थे। मोहर्रम की ड्यूटी पर लखनऊ आए थे। विमल की चार महीने पहले शादी हुई थी। परिवार वालों का आरोप है कि बीमार होने के बाद भी मुंशीगंज के एसओ ने उन्हें ड्यूटी पर बुला लिया। हालत बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी।

बच्चों ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाई कि डेंगू से उन्हें बचाया जाए। फोटो- महेंद्र पांडेय

वहीं छोटे लाल (67 वर्ष) की भी डेंगू से मौत हो गयी। उनके बेटे अलोक कुमार ने बताया कि टेस्ट में डेंगू निकला था। उसके बाद प्राईवेट अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गयी। शनिवार को राजधानी में डेंगू के 53 नए मरीज मिले, जिसमें बलरामपुर में तीन, सिविल में 37 और लोहिया में 13 मामले आए।

Share it
Top