तंबाकू सेवन पर लगाम कसने के लिए सिविल सोसायटी को आगे आना चाहिए: नड्डा

तंबाकू सेवन पर लगाम कसने के लिए सिविल सोसायटी को आगे आना चाहिए: नड्डाgaoconnection

नई दिल्ली (भाषा)। तंबाकू के इस्तेमाल में कमी लाने के लिए सामाजिक संगठनों का सहयोग मांगते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने आज उनसे स्कूलों के एक समूह को गोद लेने और बच्चों में तंबाकू के नुकसान के बारे में संवेदनशीलता पैदा करने का आग्रह किया।

विश्व तंबाकू निरोधक दिवस की पूर्व संध्या पर नड्डा ने कहा कि तंबाकू की बुराइयों के बारे में स्कूली बच्चों को संवेदनशील बनाना ज़रूरी है ताकि वे इसका सेवन शुरु ही न करें। उन्होंने कहा, ‘‘मैं एनजीओ और सिविल सोसायटी संगठनों से आगे आने और पांच छह स्कूलों को गोद लेकर बच्चों को तंबाकू के सेवन के खतरों के बारे में और तंबाकू उत्पादों पर बड़ी चित्रमय स्वास्थ्य चेतावनियों के असर के बारे में संवेदनशील बनाने का अनुरोध करता हूं।'' नड्डा ने कहा, ‘‘इसका मकसद उन्हें शुरुआत से ही तंबाकू के नुकसान के बारे में जागरूक करना है जिससे वे चबाने या धूम्रपान, दोनों में से किसी भी स्वरुप में इसका सेवन शुरु न करें। हम एक के बाद एक कैंसर अस्पताल बना सकते हैं और बिस्तरों की संख्या बढ़ाकर उनमें रोगियों को भी भर्ती कर सकते हैं। लेकिन हमारा ध्यान रोकथाम पर होना चाहिए।''

35 फीसदी भारतीय वयस्क तंबाकू के आदी

अंतरराष्ट्रीय वयस्क तंबाकू सर्वेक्षण का जिक्र करते हुए नड्डा ने कहा कि करीब 35 प्रतिशत भारतीय वयस्क किसी न किसी रुप में तंबाकू का सेवन करते हैं जबकि इसे लेकर इतनी जागरूकता और संवेदनशीलता बढ़ाई जा रही है। नड्डा ने आज तंबाकू छोड़ना चाहने वाले लोगों की मदद के लिए ‘नेशनल टोबेको सेसेशन क्विटलाइन' की शुरुआत की। उन्होंने कहा, ‘‘रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि 50 प्रतिशत तंबाकू उपभोक्ता इसे छोड़ना चाहते हैं जो एक सकारात्मक पहलू है और हमें इस दिशा में काम करना होगा।''

तंबाकू की लत छुड़ाने के लिए हेल्पलाइन

तंबाकू की लत छुड़ाने की सेवा प्रदान करने के लिए वल्लभभाई पटेल चेस्ट इंस्टीट्यूट ने राष्ट्रीय हेल्पलाइन - 1800112356 की शुरुआत की है। कार्यक्रम को स्वास्थ्य मंत्रालय का समर्थन प्राप्त है।

शुरुआत में हेल्पलाइन सोमवार को छोड़कर शेष दिनों में सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक चलाया जाएगा और प्रत्येक शिफ्ट में छह प्रशिक्षित सलाहकार होंगे।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.