ट्रेन की संख्या बढ़ने से सुविधाओं के साथ मुसीबतें भी बढ़ीं

ट्रेन की संख्या बढ़ने से सुविधाओं के साथ मुसीबतें भी बढ़ींgaonconnection

प्रतापगढ़। जिले में ट्रेन की संख्या बढ़ने से लोगों को सुविधा तो हुई है, लेकिन स्टेशन के पास रहने वालों की मुसीबत बढ़ गयी है। प्रतापगढ़ से वाराणसी-लखनऊ-इलाहाबाद रूट पर पहले गिनती की ट्रेन चलती थीं अब हर दिन में दो दर्जन से भी ज्यादा सवारी गाड़ियां और माल गाड़ियां गुजरती हैं।

रेलगाड़ियों और मालगाड़ियों के रुकने से भंगवा, खजुरनी, पूरे माद, पूरे मोहन, औवार, महुआर, कादीपुर समेत कई गाँवों के लोगों को परेशानी होती है।

नया माल गोदाम रोड रेलवे क्रासिंग के पास ही गोदाम भी है, जहां पर गेहूं, चावल, उर्वरक समेत अन्य सामग्रियों माल गाड़ी से उतरती है। रेलगाड़ी और मालगाड़ियों के गुजरने के दौरान क्रासिंग अक्सर बंद रहती है। इससे क्रासिंग के दोनों ओर वाहनों का जाम लग जाता है।

भंगवा गाँव के आदित्य सिंह एमडीपीजी कॉलेज में इस बार बीए थर्ड इयर में पढ़ते हैं साथ ही कोचिंग भी करते हैं। आदित्य बताते हैं, “हर दिन कोचिंग जाने में देर हो जाती है, कितनी भी जल्दी घर से निकलो यहां पर जाम लग जाता है।”

नया माल गोदाम रोड पर बनी रेलवे क्रासिंग अब लोगों के लिए मुसीबत बन रही है। अधिक ट्रेनों के संचालन के साथ ही मालगाड़ी और बड़ी ट्रेनों के डिब्बे क्रासिंग तक रुकने के कारण वाहनों का जाम लग जाता है। इससे बाइक सवार से लेकर बड़े वाहन सवार लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। 

साकेत एक्सप्रेस, नीलांचल समेत कई बड़ी ट्रेनों के डिब्बे क्रासिंग के करीब तक रोके जाते हैं। इससे क्रासिंग आधे घंटे से अधिक समय तक बंद हो जाती है। 

इस दौरान लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ता है। इस रास्ते से रेलवे कालोनी में रहने वाले कर्मचारियों के साथ ही नगर पालिका क्षेत्र का पूर्वी सहोदरपुर मोहल्ला है। 

सैकड़ों ग्रामीण ही दिन जिला अस्पताल और दूसरे निजी अस्पतालों में जाते हैं। क्रासिंग बंद होने से कभी-कभी बीमार लोगों को दूसरे रास्ते से लेकर भागना पड़ता है। 

पूर्वी सहोदरपुर मुहल्ले के रवीन्द्र यादव कहते हैं, “हर दिन की यही परेशानी है, यही हाल कुछ चिलबिल क्रासिंग का भी है, घंटों जाम लगा रहता है। लेकिन अब वहां पर फ्लाईओवर बन रहा है, जो कुछ ही दिनों में तैयार हो जाएगा।”

इस समस्या को लेकर स्थानीय लोगों ने कई बार यहां के सांसद और विधायक के साथ ही रेल विभाग के जीएम व डीआरएम को ज्ञापन सौंपा। लेकिन कोई सार्थक पहल नहीं हुई। जिससे क्रासिंग पर जाम की समस्या समाप्त हो सके।

स्वयं वालेंटियर: अभिषेक सिंह

स्कूल: मुनीश्वर दत्त स्नातकोत्तर महाविद्यालय

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

Tags:    India 
Share it
Top