ट्रेनों को टकराने से रोकने की प्रणाली का परीक्षण

ट्रेनों को टकराने से रोकने की प्रणाली का परीक्षणgaonconnection

नई दिल्ली (भाषा)। रेलवे ने ट्रेनों को टकराने से रोकने की प्रणाली (TCAS) का सिकंदराबाद मंडल के 250 किलोमीटर लंबे लिंगमपल्ली-बिडार खंड पर परीक्षण किया। प्रणाली से ट्रेन के इंजन के भीतर चालक को चेतावनी मिल जाएगी।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रिसर्च डिजाइंस एंड स्टैंडर्ड ऑर्गेनाइजेशन (RDSO) भारतीय विक्रेताओं के सहयोग से इसे देश में ही विकसित कर रही है। इसका उद्देश्य सिग्नल को नजरअंदाज करने वाले चालक की गलती के कारण या अत्यधिक रफ्तार के कारण होने वाले ट्रेन हादसों को रोकना है।

इसके अलावा यूरोपियन ट्रेन कंट्रोल सिस्टम टेक्नोलॉजी पर आधारित ट्रेन प्रोटेक्शन एंड वार्निंग सिस्टम (TPSW) का भी कुछ खंडों पर परीक्षण किया गया है।

50 किलोमीटर लंबे चेन्नई-गुम्मीदिपुंडी उपनगरीय खंड और 200 किलोमीटर लंबे निजामुद्दीन-आगरा खंड पर TPWS का परीक्षण किया जा रहा है। दिल्ली-आगरा खंड पर 160 किलोमीटर की अधिकतम रफ्तार से चलने वाली गतिमान एक्सप्रेस में TPWS लगाया गया है।

Tags:    India 
Share it
Top