उमाशंकर मौर्य की हत्या की जांच सीबीआई सिफारिश

उमाशंकर मौर्य की हत्या की जांच सीबीआई सिफारिशGaon Connection

सुलतानपुर। उमाशंकर मौर्य हत्याकांड की सीबीआई जांच कराने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने केंद्र से सिफारिश की है। मांगे माने जाने के बाद परिजनों ने पांचवें दिन शव का अंतिम संस्कार कर दिया।

चांदा थाना क्षेत्र के सिंहौली गांव निवासी उमाशंकर मौर्य की गोलीमाकर कर हत्या कर दी गई थी। परिवार वाले शव को घर में रखकर मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे। जिलाधिकारी और एसपी के साथ ही क्षेत्रीय विधायक संतोष पाण्डेय की ओर से परिवार के लोगों को उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से केन्द्र को सीबीआई जांच के लिए भेजे गए सिफारिशी पत्र की कॉपी सौंपी गई। जिसके बाद परिजन अंतिम संस्कार को राजी हुए। मृतक के भतीजे सौरभ ने बताया कि सरकार की ओर से भरोसा मिलने के बाद शव का अंतिम संस्कार किया गया है।

उमाशंकर मौर्य के बड़े भाई रमाकांत मौर्य की भी सितम्बर 2015 में गोलीमार कर हत्या की गई थी। छह माह के अंतराल में उसी परिवार में दोहरे हत्याकांड से आक्रोशित परिवार और आसपास के लोग मांगों के निपटारे तक उमाशंकर का अंतिम संस्कार नहीं करने पर अड़े थे। मामला विधानसभा में गूंजा था। चौतरफा दवाब के चलते सीबीआई जांच की सिफारिश का निर्णय लेना पड़ा।

उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सचिव मणि प्रसाद मिश्र ने जिलाधिकारी और एसपी की संयुक्त रिपोर्ट पर केन्द्र के कार्मिक एवं प्रशिक्षण व लोक शिकायत विभाग के सचिव को सीबीआई जांच का सिफारिशी पत्र भेजा है।

जिलाधिकारी एस राजलिंगम ने परिजनों की अन्य सभी मांगे जल्द पूरा कराने का भरोस दिया है। जिलाधिकारी ने कहा, “परिवार के लोगों को लखनऊ में मुख्यमंत्री ने मिलने का समय दिया है। मृतक आश्रित को नौकरी देने के लिए भी सीएम से अनुरोध किया गया है। दोषियों सजा दिलाई जाएगी।”

व्यापारी के परिवार को संत्वना देने के लिए सोमवार को भी स्थानीय प्रतिनिधियों और लोगों का हुजूम लगा है। फूलपुर के सांसद केशव प्रसाद मौर्या के प्रतिनिधी के रुप में ब्लाक प्रमुख मऊ आइमा सुधीर मौर्या, इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ के महामंत्री सुरेन्द्र चौधरी, अपना दल के प्रदेश अध्यक्ष छोटे लाल मौर्या व मण्डल अध्यक्ष सुरेश टाइगर पहुँच कर शोकाकुल परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की।

Tags:    India 
Share it
Top