कौएद का सपा में विलय पहले ही हो चुका है : शिवपाल

कौएद का सपा में विलय पहले ही हो चुका है : शिवपालउत्तर प्रदेश में सत्तारुढ़ समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव।

लखनऊ (भाषा)। उत्तर प्रदेश में सत्तारुढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने गुरुवार को कहा कि अफजाल अंसारी की अगुवाई वाली कौमी एकता दल (कौएद) का सपा में विलय पहले ही हो चुका है और इसे लेकर पार्टी में कोई मतभेद नहीं है।

जरुरत पड़ी तो दोबारा ऐलान कर देंगे मुलायम

शिवपाल ने यहां प्रेस कांफ्रेंस में अपनी राज्य कार्यकारिणी की 81 सदस्यीय टीम की घोषणा करते हुए एक सवाल पर कहा कि कौएद का सपा में विलय मुकम्मल हो चुका है और सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव इस बारे में पहले ही घोषणा कर चुके हैं, अगर जरुरत पड़ी तो वह दोबारा ऐलान कर देंगे। उन्होंने कहा, ‘‘नेताजी ने बोल दिया है कि कौमी एकता दल का सपा में विलय हो चुका है, वह सपा में हैं, विलय हो चुका है, जब नेताजी ने कर दिया है तो विलय हो ही चुका है।'' माफिया सरगना विधायक मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल अंसारी की अगुवाई वाली कौएद के सपा में विलय को लेकर पार्टी में मतभेद के सवाल पर शिवपाल ने कहा ‘‘पार्टी में सब कुछ अच्छा है, बहुत अच्छा है।''

मालूम हो कि गत जून माह में कौएद का सपा में विलय किया गया था, लेकिन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कड़े विरोध के बाद पार्टी संसदीय बोर्ड ने इस विलय को रद्द कर दिया था। उसके बाद गत 15 अगस्त को सपा मुखिया ने कहा था कि वह इस विलय को मान्यता देते हैं, हालांकि इसकी सार्वजनिक घोषणा नहीं की गई थी। ऐसा माना जा रहा था कि इस बारे में जल्द ही औपचारिक ऐलान होगा।

अदालत से दोषी करार देने से पहले कोई गुनहगार नहीं : शिवपाल

कवयित्री मधुमिता शुक्ला हत्याकाण्ड मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे पूर्व विधायक अमरमणि त्रिपाठी के अपनी पत्नी के कत्ल के आरोपी पुत्र अमनमणि को आगामी विधानसभा चुनाव के लिए सपा का टिकट दिए जाने का बचाव करते हुए शिवपाल ने कहा कि अदालत से दोषी करार दिए जाने से पहले किसी को गुनहगार नहीं ठहराया जा सकता। उन्होंने कहा कि अमनमणि को टिकट देने का विरोध कर रही उनकी सास सीमा द्वारा सपा मुखिया से मुलाकात की कोशिश के सवाल पर शिवपाल ने कहा ‘‘वह हमसे मिल लें। जब मिलेंगी तो विचार कर लेंगे।'' मालूम हो कि अमनमणि पर अपनी पत्नी सारा की हत्या करने का आरोप है और सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है।

हमने तो पार्टी से निकाल दिया पुनर्विचार का जिसका अधिकार है, उसके पास जाएं

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कुछ करीबी सहयोगियों को सपा से हाल में निकाले जाने के बाद उनकी वापसी के लिए पुनर्विचार के सवाल पर शिवपाल ने कहा ‘‘हमने तो उन्हें निकाल दिया। अब वे पुनर्विचार का जिसका अधिकार है, उसके पास जाएं।'' अखिलेश के करीबी सहयोगियों विधान परिषद सदस्य सुनील सिंह यादव, आनन्द भदौरिया, संजय लाठर और मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष गौरव दुबे एवं प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद एबाद, युवजन सभा के प्रदेश अध्यक्ष बृजेश यादव और समाजवादी छात्रसभा के प्रान्तीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह देव को गत 19 सितम्बर को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में सपा से निकाल दिया गया था।

सपा की 81 सदस्यीय टीम का ऐलान

शिवपाल ने सपा की 81 सदस्यीय टीम का ऐलान किया। इस मौके पर हाल में बसपा से निष्कासित पूर्व मंत्री अब्दुल मन्नान सपा में शामिल भी हो गए। उन्होंने कहा कि हाल में प्रत्याशियों में बदलाव से पहले नेताजी (मुलायम) और मुख्यमंत्री अखिलेश की भी सलाह ली गयी थी। नई प्रदेश कार्यकारिणी भी सबकी सलाह से बनायी गयी है। नई कार्यकारिणी में काबीना मंत्री ओमप्रकाश सिंह की वापसी हुई है। उन्हें प्रदेश महामंत्री बनाया गया है।

राजकिशोर पर हम विचार करेंगे

हाल में मंत्रिमण्डल से बर्खास्त किए गए राजकिशोर सिंह द्वारा कल बस्ती में सपा के खिलाफ मोर्चा खोले जाने के सवाल पर शिवपाल ने कहा ‘‘सिंह ने अपना कुछ प्रयास किया है, हम देखेंगे, विचार करेंगे। विधानसभा चुनाव की तैयारियों के बारे में पूछे गये एक सवाल पर सपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सपा मुखिया सभी मण्डलों में रैलियां करेंगे।




Share it
Top