यूपी चुनाव: हर तीसरा प्रत्याशी आरोपी

यूपी चुनाव: हर तीसरा प्रत्याशी आरोपीआखिरी चरण का मतदान कल से थम जाएगा।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 के सातवें और अंतिम चरण के चुनाव के लिए सोमवार शाम पांच बजे प्रचार समाप्त हो जाएगा। इस चरण में सात जिलों की 40 विधानसभा सीटों पर 8 मार्च को वोट डाले जाएंगे। एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी के विधानसभा चुनावों में उतारा गया हर तीसरा प्रत्याशी आपराधिक मामलों का सामना कर रहा है।

8 मार्च को वाराणसी, गाजीपुर, चंदौली, मिर्जापुर, भदोही, सोनभद्र और जौनपुर समेत 40 सीटों पर मतदान होना है। अंतिम चरण के चुनाव के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों के दिग्गजों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पिछले दो दिनों से अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कैंप, रोड शो और रैलियों के जरिए वोटरों को साधने में लगे हैं वहीं मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी सपा-कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवारों के लिए रोड शो और रैली करके वोट मांग रहे हैं। बसपा सुप्रीमो मायावती शनिवार को वाराणसी में रोहनिया विधानसभा क्षेत्र के जगतपुर डिग्री कालेज में जनसभा कर चुनाव में अपने प्रचार अभियान का समापन अपनी पार्टी के जीत के शंखनाद के साथ कर चुकी हैं।

उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए कुल 4,853 प्रत्याशी चुनावी मैदान में है और उनमें से 4,823 उम्मीदवारों के हलफनामों के विश्लेषण के आधार पर उत्तर प्रदेश एलेक्शन वाच एंड एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स (एडीआर) ने कहा कि 859 उम्मीदवारों (करीब 18 प्रतिशत) ने खुलासा किया है कि उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज है। वहीं 704 उम्मीदवारों (15 प्रतिशत) ने अपने हलफनामे में कहा है कि उनके खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

एडीआर ने कहा कि चुनाव आयोग की वेबसाइट पर अस्पष्ट हलफनामा होने के कारण शेष उम्मीदवारों का विश्लेषण नहीं किया जा सका। संगठन के विश्लेषण में यह बात निकलकर सामने आयी कि सात चरण में करीब 1,457 करोड़पति उम्मीदवार हैं वहीं प्रत्याशियों की औसत संपत्ति 1.91 करोड़ रुपये की है।

पार्टीवार विश्लेषण के आधार पर एडीआर ने कहा है कि बसपा के 400 में से 150 उम्मीदवारों (40 प्रतिशत) के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। भाजपा के 36, सपा के 37 और कांग्रेस 32 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं। बसपा के 31, सपा के 29, भाजपा के 26 और कांग्रेस के 22 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर आपराधिक मुकदमा दर्ज है।

Share it
Top