सियासी संकट के बीच अब क्या करेंगे अखिलेश यादव ?

सियासी संकट के बीच अब क्या करेंगे अखिलेश यादव ?कार्यकर्ताओं की नजर सीएम के अगले कदम पर।

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सपा से निष्कासन के बाद यूपी में सियासी संकट खड़ा हो गया है। हालांकि राज्यपाल राम नाईक ने कहा है कि यह सपा का आंतरिक झगड़ा है। वह राज्य में सियासी हालात पर नजर रखे हुए हैं। अगर किसी तरह का संवैधानिक संकट खड़ा होता है तो वह तुरंत कार्रवाई करेंगे।

अब देखना यह है कि अखिलेश का अगला कदम क्या होगा। अगर वह अपने समर्थन में विधायकों का बहुमत साबित कर देते हैं तो स्थिति क्या होगी? क्या राज्यपाल अखिलेश से पद छोड़ने को कहेंगे? क्या राज्यपाल विधानसभा में अखिलेश से अपना बहुमत साबित करने को कहेंगे? क्या यह सियासी संकट राष्ट्रपति शासन लगाने के अनुकूल है? इन सवालों का जवाब राज्यपाल के अगले कदम पर निर्भर करेगा।

यूपी में अब क्या होगा इसे लेकर टीवी चैनलों से लेकर गांव-चौपाल तक चर्चा का बाजार गर्म है। जानकार भी इसका आंकलन करने में जुटे हैं। इंडिया टीवी के डायरेक्टर न्यूज हेमंत शर्मा ने चैनल पर चर्चा में कहा, “बीते दिनों विधानसभा सत्र में सप्लीमेंट्री बजट पास हुआ था। उस दौरान सभी विधायक ने वोट किया था। इसलिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को बहुमत साबित करने की जरूरत नहीं है। हां, अगर राज्यपाल को लगता है कि संवैधानिक संकट खड़ा हो गया है तो वहा फ्लोर पर बहुतम साबित करने को कह सकते हैं, लेकिन अगले हफ्ते तक प्रदेश में चुनाव का ऐलान हो सकता है तो ज्यादा कुछ कहना मुश्किल है।” इसी बीच विपक्ष ने सपा पर हमला बोल दिया है। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा, “सपा महासचिव प्रो. राम गोपाल यादव वरिष्ठ नेता हैं। बीते दो माह पहले भी उन्हें पार्टी से निकाला गया था। मेरे हिसाब से सपा में जो भी कुछ घट रहा है वह सुनियोजित है।” वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने कहा यूपी और सपा में जो हो रहा है उसके पीछे बीजेपी का हाथ है। बीजेपी ने पिता-पुत्र को आमने सामने खड़ा कर दिया है।

आज कब-कब क्या हुआ ?

-राम गोपाल यादव ने सपा प्रमुख को चुनौती देते हुए शुक्रवार को आपात बैठक बुलाई थी।

-मुलायम ने प्रत्याशियों की नई सूची जारी करने पर अखिलेश के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया।

-मुलायम ने चुनाव में टिकट पाए प्रत्याशियों की बैठक बुलाई।

-गुरुवार रात अखिलेश ने 235 उम्मीदवारों की सूची जारी की।

-उनकी सूची में 187 वे उम्मीदवार थे जिन्हें मुलायम ने भी टिकट दिया है।

-मुलायम ने अपनी सूची के बराबर प्रत्याशियों की सूची जारी करने पर अखिलेश पर अनुशासनात्मक कार्रवाई का नोटिस जारी किया।

-गुरुवार रात शिवपाल मुलायम से मिले, सपा में उपजे हालात पर चर्चा की।

-मुलायम ने शनिवार को 393 उम्मीदवारों की बैठक बुलाई है जिन्हें टिकट दिया गया है।

Share it
Top