अखिलेश यादव ने पीएम पर साधा निशाना, कहा, 2019 में वापस नहीं आएगी भाजपा की सरकार

अखिलेश यादव ने पीएम पर साधा निशाना, कहा, 2019 में वापस नहीं आएगी भाजपा की सरकारफैजाबाद में चुनावी जनसभा को संबोधित करते सीएम अखिलेश यादव।

अयोध्या/फैजाबाद (भाषा)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज बसपा पर भाजपा की मदद से सपा को रोकने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले लोकसभा चुनाव में भगवा दल को अपना वोट दिलवाने वाली बसपा से वफा की उम्मीद नहीं की जा सकती। भाजपा को जनता 2019 में दिल्ली नहीं जाने देगी। अखिलेश ने अयोध्या से सपा उम्मीदवार पवन पाण्डेय के समर्थन में आयोजित जनसभा में कहा कि बसपा असल में भाजपा से नहीं लड़ना चाहती है।

ये भी पढ़िए- गोंडा में बोले मोदी, जनता के पास है तीसरी आंख, सही गलत का करेगी फैसला

आयोध्या में रैली के दौरन सपा समर्थकों में भारी उत्साह दिखा।

भाजपा और बसपा के लोग मिलकर सपा को रोकना चाहते हैं। बसपा मुखिया मायावती भाजपा से मिली हुई हैं और वह एक बार फिर उसके साथ ‘रक्षाबंधन' मनाना चाहती हैं। उन्होंने कहा ‘‘हमारी बुआजी (मायावती) अब तो बहुत लंबा भाषण पढ़ने लगी हैं और विकास की भी बातें करने लगी हैं। जनता ने जब उन्हें मौका दिया था तो उन्होंने बड़े-बड़े हाथी लगवा दिए थे। बुआजी से क्या उम्मीद करोगे, जिन्होंने अपना पूरा वोट पिछली बार भाजपा को दिलवा दिया था। परिणाम यह हुआ कि भाजपा को सबसे ज्यादा सीटें मिल गयीं और केंद्र में उसकी सरकार भी बन गयी।''

चुनाव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

बसपा-भाजपा से सावधान रहे जनता

अखिलेश यादव ने जनता को बसपा से होशियार करते हुए कहा ‘‘आप साइकिल तो छोटी सी जगह में रख लोगे, हाथी को कहां रखोगे। अगर हाथी घर में घुस गया तो सब गड़बड़ कर देगा।'' उन्होंने बसपा छोड़कर दूसरे दलों में गए नेताओं द्वारा लगाए गए आरोपों का जिक्र करते हुए कहा कि बसपा में नकदी दिए बगैर चुनाव का टिकट नहीं मिलता है। मैं नहीं पूछूंगा कि बसपा के प्रत्याशी कितनी नकदी देकर टिकट लाये हैं।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की रैली में उपस्थित सपा कार्यकर्ता।

पीएम को फिर विकास पर मुद्दे पर चुनाैती

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक बार फिर विकास के मुद्दे पर बहस की चुनौती देते हुए कहा ‘‘प्रधानमंत्री जी चाहें तो उस गंगा मैया के किनारे, जिसे साफ करने का उन्होंने वादा किया था, वहां बहस कर लें, चाहे गोमती के किनारे, चाहे लोहिया गांव में, चाहे आपने जो आदर्श गांव बनाया, वहां बहस कर लें।'' अखिलेश ने कहा ‘‘प्रधानमंत्री जी अगर कहीं बहस नहीं करना चाहते तो हमारे खजांची के यहां जो नोटबंदी का असर हुआ है, वहां बहस कर लें। मोदी जी ने मेट्रो और एक्सप्रेसवे का मजाक बनाया है। अभी अयोध्या और फैजाबाद के लोगों को वोट डालने दो, तब सब भाजपा नेताओं का असली ब्लड प्रेशर पता चलेगा।'' उन्होंने कहा कि अयोध्या के घाट नेताजी (मुलायम सिंह यादव) ने बनवाये थे। हमने यहां भजन स्थल भी बनवाया है। हमने यह इंतजाम किया कि लोग भजन आराम से सुनें। समाजवादी लोग अयोध्या को सुंदर शहर बनाना चाहते हैं, लेकिन भाजपा वाले इस शहर पर राजनीति करना चाहते हैं।

नोटबंदी पर जनता को गुमराह किया गया

मुख्यमंत्री ने ‘गुजरात के गधों' के विज्ञापन को लेकर अपने तंज पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कल की टिप्पणी की तरफ इशारा करते हुए कहा ‘‘हम उस विज्ञापन के बारे में नहीं जाना चाहते। अगर हमने आगे बात की तो प्रधानमंत्री पता नहीं आगे और क्या बात करेंगे।'' मोदी नोटबंदी पर जनता को गुमराह किया है। कई लोगों को जान लाइन में खड़े रहने से चली गई। तीन साल बीत गया लेकिन बुलेट ट्रेन नहीं अभी तक नहीं चल पाई।

अगले दो साल में भी नहीं चल पाएगी, ऐसे में जनता से मोदी सरकार से जवाब मांगेगी और उन्हें 2019 में दिल्ली नहीं जानो देगी। अखिलेश ने कहा कि भाजपा के लोग क से कसाब पढा रहे हैं, हमने तो क से कबूतर पढा है। कबूतर तो शांति का पैगाम देता है। उन्होंने कहा कि साइकिल चलाने वाले लोग हैंडल छोड़कर भी साइकिल चला लेते हैं लेकिन इस बार तो कांग्र्रेस के हाथ भी इस हैंडल से जुड गये हैं, सोचिये कि साइकिल कितनी तेज चलेगी। सपा अध्यक्ष ने मतदाताओं से वोट मांगते हुए कहा ‘‘हम सबसे निवेदन करते हैं कि इस लड़ाई में हमारी मदद कर दीजिए। समाजवादी लोग काम करते हैं, दूसरे दलों की तरह झूठे वादे नहीं करते हैं।

Share it
Top