बेनी ने अरविंद गोप पर लगाया आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप

बेनी ने अरविंद गोप पर लगाया आचार संहिता के उल्लंघन का आरोपबेनी प्रसाद वर्मा सपा के राज्यसभा सदस्य हैं

बाराबंकी (भाषा)। सपा में अखिलेश-मुलायम के बीच भले ही समझौता होने को है लेकिन पार्टी के भीतर लोग दो गुटों में बंट चुके हैं। सपा के राज्यसभा सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के करीबी मंत्री अरविन्द सिंह गोप के खिलाफ चुनाव आयोग से आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत की है।

वर्मा ने आयोग को सोमवार को भेजे गए पत्र में कहा है कि प्रदेश के ग्राम्य विकास मंत्री गोप ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके चुनाव आचार संहिता से ठीक पहले जिले में अपनी जाति के पुलिस अधीक्षक को तैनात कराया और फिर अपनी विधानसभा में अपनी ही जाति के सभी थानाध्यक्षों और चौकी प्रभारियों को पदस्थ कराया जबकि अगस्त 2016 के तीसरे हफ्ते में पुलिस अधीक्षक कहीं से स्थानांनतरित होकर आए थे।

ये भी पढ़े: बाराबंकी में साइकिल की राह मुश्किल, बेनी बाबू मुलायम के खास़ तो सीएम के भरोसेमंद हैं अरविंद सिंह गोप

सपा के संस्थापक सदस्यों में शुमार किए जाने वाले वर्मा ने पत्र में यह भी आरोप लगाया है कि आचार संहिता लागू होने के बाद गोप ने छह जनवरी को अपने निर्वाचन क्षेत्र रामनगर में अपने कार्यकर्ताओं द्वारा गरीबों को कम्बल वितरित कराए। यह आचरण आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की श्रेणी में आता है।

मालूम हो कि कभी बाराबंकी की राजनीति में वर्चस्व रखने वाले वर्मा और अब उनके जैसी ही हैसियत पा चुके गोप के आपसी रिश्ते हमेशा ही तल्ख रहे हैं। सपा मुखिया द्वारा घोषित पार्टी प्रत्याशियों की सूची में रामनगर सीट से वर्मा के बेटे राकेश वर्मा को टिकट दिया गया है, जबकि मुख्यमंत्री द्वारा घोषित सूची में रामनगर सीट से गोप को ही उम्मीदवार बनाया गया है।

वर्मा की इस शिकायत का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी अजय यादव ने अपर जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को इसकी जांच सौंपी है।

Share it
Top