मुख्यमंत्री झूठ बोलते हैं: शिवपाल यादव 

मुख्यमंत्री झूठ बोलते हैं: शिवपाल यादव प्रतीकात्मक फोटो। साभार: गूगल

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के संयुक्त सम्मेलन में अखिलेश यादव के भाषण के बाद उनके सवालों को सिलसिलेवार जवाब देने-देने के लिए खड़े हुए शिवपाल यादव ने पलटवार किया। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को झूठा करार देते हुए उन्होंने कहा कि "मैं गंगा जल उठाकर अपने बच्चे की कसम खाकर कह रहा हूं कि मुख्यमंत्री ने मुझसे कहा था कि मैं नया दल बनाऊंगा और किसी भी दल से समझौता कर चुनाव लड़ूंगा।"

नेताजी के संघर्ष से पार्टी आज यहां तक पहुंची

अखिलेश यादव के समर्थन में नारे लगा रहे लोगों से उन्होंने कहा कि "अनुशासनहीतना बर्दाशत नहीं की जाएगी। जो लोग चिल्ला रहे हैं, वह लोग अनधिकृत हैं। मैं चाहता तो मैं भी अपने लोगों को बुलाकर जवाब दे सकता हूं। मैंने पार्टी बनाने में योगदान दिया है। नेताजी आपके संघर्ष से पार्टी यहां तक पहुंची।"

नेता जी ने मेरी तारीफ की है

अखिलेश यादव को जूनियर साबित करने के लिए शिवपाल यादव ने कहा कि "मुख्यमंत्री का जन्म 1973 में हुआ और मैंने पार्टी के लिए काम करना शुरू किया था। हम लोग साइकिल से गांव-गांव जाते थे। एक गांव भी नहीं छोड़ा था। नेताजी ने मेरे काम की तारीफ की है।" मुख्यमंत्री की तरफ से अपने विभाग लिए जाने पर उन्होंने कहा कि क्या मेरे विभाग ने अच्छा काम नहीं किया? नेताजी आप अच्छी तरह जानते हैं, मेरा कसूर क्या है। क्या मैंने मुख्यमंत्री से कम काम किया। मैंने नेताजी और मुख्यमंत्री का हर आदेश माना है। मुझसे क्या झगड़ा। नहीं बुलाया जाता था, तब भी जाकर मैं मुख्यमंत्री से मिलता था।"

लेकिन मेरे साथ क्या हुआ

सपा अध्यक्ष पद से हटाए जाने से नाराज अखिलेश यादव को याद दिलाते हुए कहा कि "नेताजी जी ने जब कहा था कि आपको हटाकर अखिलेश यादव को प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा रहा है तो तुरंत इस आदेश का पालन किया। अखिलेश के प्रदेश अध्यक्ष बनने पर एयरपोर्ट जाकर उनका स्वागत किया। लेकिन आपके आदेश पर मेरे साथ क्या हुआ। प्रदेश अधयक्ष बनते ही मेरे विभाग छीन लिए गए। मुझे बर्खास्त कर दिया गया।"

Share it
Top