बुंदेलखंड की तिंदवारी सीट पर इस बार साख पर होगा मतदान

बुंदेलखंड की  तिंदवारी सीट पर इस बार साख पर होगा मतदानइस सीट पर 4 बार कांग्रेस, 3 बार बसपा और 2 बार सपा के विधायक चुने जा चुके हैं।

आर. जयन

बांदा (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में बांदा जिले की तिंदवारी विधानसभा सीट पर इस बार फिर किसी दल के समर्थन या विरोध के बजाय उम्मीदवार की ‘साख’ पर चुनाव होने के आसार हैं। 1974 से वजूद में आई यह सीट ने मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री का प्रतिनिधित्व देख चुकी है। यहां से चार बार कांग्रेस, तीन बार बसपा और दो बार सपा के विधायक चुने जा चुके हैं।

दलित, क्षत्रिय और निषाद बहुल इस सीट पर सबसे पहले 1974 से अब तक हुए विधानसभा चुनावों पर नजर डालें तो बांदा सदर सीट से अलग किए जाने के बाद 1974 में पहली बार भारतीय जनसंघ से जगन्नाथ सिंह चुनाव जीते थे, इसके बाद 1977 में जनता पार्टी से जगन्नाथ सिंह जीते। 1980 में कांग्रेस के शिवप्रताप सिंह, 1981 में हुए उप चुनाव में मुख्यमंत्री रहते वीपी सिंह चुनाव जीते।

वर्ष 1985 में कांग्रेस के अर्जुन सिंह, 1989 में जनता दल के चंद्रभान सिंह उर्फ चंदा भइया चुनाव जीते। 1991 और 1993 के चुनाव में बसपा के विशंभर प्रसाद निषाद, 1996 में बसपा के महेंद्र प्रसाद निषाद और 2002 व 2007 में सपा के विशंभर प्रसाद निषाद चुनाव जीते थे। 2012 के चुनाव में कांग्रेस के दलजीत सिंह 61,037 मत हासिल कर सपा के विशंभर प्रसाद निषाद को 14,945 मतों से हराया, यहां सपा उम्मीदवार को 46,092 मत मिले थे। बसपा के अच्छेलाल निषाद को 37,642 और भाजपा के बलराम सिंह को महज 8,771 मत ही मिल पाए थे।

इस बार 2017 के चुनाव में यहां कुल मतदाताओं की संख्या 3,08,118 है, जिनमें 1,37,533 महिलाएं और 1,70,576 पुरुष मतदाता दर्ज हैं। एक अनुमान के अनुसार, यहां दलित 61 हजार, क्षत्रिय 55 हजार, निषाद 52 हजार, ब्राह्मण 23 हजार, मुस्लिम 20 हजार, यादव 19 हजार, कुम्हार 17 हजार, कुशवाहा 12 हजार, वैश्य 11 हजार, आरख 09 हजार, लोधी 08 हजार, नाई 05 हजार, साहू 04 हजार, कायस्थ ढाई हजार के अलावा 17 हजार के आस-पास अन्य जाति के मतदाता हैं।

2017 के चुनाव में यह सीट सपा-कांग्रेस गठबंधन में कांग्रेस के खाते में गई है और कांग्रेस के निवर्तमान विधायक दलजीत सिंह उम्मीदवार है। भाजपा ने ‘बाहरी’ बृजेश प्रजापति को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। जबकि बसपा हमीरपुर जिले के कदौरा गांव के निवासी जगदीश प्रजापति को बहुत समय पहले से अपना उम्मीदवार घोषित कर रखा है। मुख्यमंत्री बनने के बाद वीपी सिंह 1981 में उप चुनाव लड़कर यहां से विधायक बने थे और यहीं से जनता दल से चुनाव लड़ने के बाद सांसद बन वह प्रधानसमंत्री भी बने थे।

क्या कहते हैं उम्मीदवार

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के जिलाध्यक्ष प्रदीप वर्मा कहते हैं कि बसपा उम्मीदवार पिछले एक साल से ‘डोर टू डोर’ मतदाताओं के संपर्क में है और उनकी साख में अब तक कोई बट्टा नहीं लगा है, जबकि कांग्रेस उम्मीदवार के खिलाफ अवैध बालू खनन के सिलसिले में एनजीटी में मामला चल रहा है।’

भाजपा के एक जिला स्तरीय पदाधिकारी का कहना है कि पार्टी ने बहुत सोच-समझ कर बृजेश प्रजापति की उम्मीदवारी तय की है, नाराज कार्यकर्ताओं को समझा लिया जाएगा। यहां सपा कार्यकर्ता अपने पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव के उस बयान से संशय में हैं, जिसमें उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवारों के खिलाफ चुनाव लड़ने और उन्हें हराने के लिए कहा है।

Share it
Top