‘बगावत’ के बीच मुलायम ने बुलाई सपा प्रत्याशियों की आपात बैठक, रामगोपाल बोले अब नहीं हो सकता ‘समझौता’

‘बगावत’ के बीच मुलायम ने बुलाई सपा प्रत्याशियों की आपात बैठक, रामगोपाल बोले अब नहीं हो सकता ‘समझौता’एक समारोह में अखिलेश, शिवपाल और मुलायम। फोटो साभार

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। पार्टी मुख्यालय और मुख्यमंत्री आवास के बाहर लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही है। कार्यकर्ताओं और आम लोगों की नजर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मुलायम के अगले कदम पर है, इसी बीच मुलायम ने पार्टी के घोषित उम्मीदवारों की कल बैठक बुलाई है।

समाजवादी पार्टी की तरफ से घोषित सभी उम्मीदवारों की शनिवार को पार्टी कार्यालय में बैठक होगी। सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने सभी उम्मीदवारों को लखनऊ पहुँचने का आदेश दिया। अखिलेश यादव की लिस्ट के जवाब में मुलायम सिंह ने इस बैठक का आयोजन कर रहे। इसमें संगठन के सभी पदाधिकारी भी मौजूद रहेंगे। माना जा रहा है मुलायम और शिवपाल अपने रुप पर कामय है, जिसमें मुलायम ने कहा था कि लिस्ट सोचसमझ कर जारी की गई है और अब इसमें कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

मुलायम ने बुलाई आपात बैठक।

रामगोपाल बोले- समझौते के आसार नहीं

विवाद के बीच इटावा से लखनऊ रवाना हो रहे सपा के राष्ट्रीय महासचिव और वरिष्ठ नेता रामगोपाल यादव की बातों से मामला और बिगड़ता नजर आ रहा है। समाचार चैनल आजतक के मुताबिक रामगोपाल ने पत्रकारों से कहा. “मुलायम ने उन्हें 1 जनवरी को उम्मीदवारों की लिस्ट पर बातचीत के लिए बुलाया था, उससे पहले लिस्ट जारी कर दी गई और अब समझौते के आसार नहीं हैं।”

अखिलेश की निजी लिस्ट से चढ़ा सियासी पारा

समाजवादी पार्टी में टिकट बंटवारे के बाद गुरुवार को दिनभर बैठकों के बाद देर रात मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने साथी विधायकों की बैठक के बाद 235 विधायकों की सूची जारी कर दी थी, इसके बाद सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने पलटवार करते हुए शेष बचे 78 उम्मीदवारों में 68 की भी सूची जारी कर दी। इस सूची में भी पहली सूची में छूटे अखिलेश समर्थकों को मौका नहीं दिया गया।

अब भाई और बेटे में से किसकी सुनेंगे मुलायम ?

‘जो करना पड़ेगा, करेंगे’

कई महीनों से समाजवादी पार्टी में चाचा-भतीजे (शिवपाल-अखिलेश) में मनमुटाव चल रहा था, हालांकि सार्वजनिक मंचों पर सभी एकजुट होने की बात कर रहे थे। हालांकि बुधवार को मुलायम सिंह यादव ने जब पार्टी की 325 लोगों की सूची जारी की, लेकिन उसमें कई अखिलेश समर्थकों के नाम नहीं थे। इसको लेकर गुरुवार को दर्जनों विधायकों और मंत्रियों ने सीएम अखिलेश यादव के साथ बैठक की। देर रात बैठक खत्म होने के बाद अखिलेश यादव ने कहा, "वह अपने समर्थकों की चिंता करते हैं और उनके लिए जो करना पड़ेगा, करेंगे।"

‘64 नये उम्मीदवारों को टिकट दिए”

देर रात जारी सूची में अखिलेश के करीबी मंत्री अरविन्द सिंह गोप को एक बार फिर बाराबंकी की रामनगर सीट से, राज्य मंत्री पवन पाण्डेय को दोबारा अयोध्या से और कैबिनेट मंत्री रामगोविन्द चौधरी को बलिया की बांसडीह सीट से टिकट दिया गया है। सूची में मौजूदा 171 विधायकों को टिकट दिए हैं। वहीं, 64 नए उम्मीदवारों को टिकट दिया गया है। अखिलेश ने अयोध्या से अपने करीबी पवन पांडे को टिकट दिया है।

Share it
Top