विधानसभा चुनाव का पहला चरण: 73 सीटों पर 840 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे ढाई करोड़ मतदाता

विधानसभा चुनाव का पहला चरण: 73 सीटों पर 840 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे ढाई करोड़ मतदातापहले चरण के मतदान के लिए निकलते मतदान कर्मी। 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान शनिवार को होगा। जिसमें 840 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला 2 करोड‍़ 59 लाख मतदाता करेंगे। 15 जिलों की 73 सीटों पर होने वाले इस चुनाव में सपा, बसपा, बीजेपी, कांग्रेस और रालोद के कई बड़े नेताओं की प्रतिष्टा दांव पर है।

सबसे ज्यादा उम्मीदवार मुजफ्फरनगर सीट पर

जिन सीटों पर पहले चरण का चुनाव हो रहा है उसमें सबसे ज्यादा उम्मीदवार मुजफ्फरनगर सीट पर हैं। यहां पर 16 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं वहीं सबसे कम उम्मीदवार मेरठ जिले की हस्तिनापुर सीट पर हैं। यहां से 6 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं।

संगीत सोम, हाजी याकूब कुरैशी और इमरान कुरैशी की भाग्य का फैसला-

बीजेपी के फायरब्रांड नेत संगीता सोम सरधना सीट से उम्मीदवार हैं, जबकि उनके विरोधी माने जाने हाजी याकूब कुरैशी मेरठ और उनके बेटे इमरान कुरैशी सरधना सीट से।

अजित सिंह की प्रतिष्ठा दांव पर-

राष्ट्रीय लोकदल और उसके नेता चौधरी अजित सिंह की की प्रतिष्ठा भी पहले चरण के चुनाव पर दांव पर है। जिन 15 जिलों पहले चरण का मतदान होगा, वहां के 11 जिलों में जाटों की बड़ी भूमिका है। पिछले चुनाव में अजित सिंह की पार्टी को यहां पर 9 सीटें मिली थी। इस बार अजीत सिंह अपनी पूरी ताकत लगाए हैं।

पिछले चुनाव में सपा और बसपा के बीच हुआ था बराबरी का मुकाबला-

साल 2012 के विधानसभा चुनाव में यहां की 73 सीटों पर सपा और बसपा के बीच कांटे की टक्कर हुइ्र थी, जिसमें सपा को 24, बसपा को 23, बीजेपी केा 12, रालोद को 9 और कांग्रेस को पांच सीटें मिली थी।

बीजेपी के सामने लोकसभा चुनाव की जीत दोहराने की चुनौती

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर पर सवार होकर बीजेपी ने यहां की सारी लोकसभा सीटों पर कब्जा जमाया था। इस चुनाव के में बीजेपी केा लोकसभा की जीत को कामय रखने की चुनौती है।


पश्चिमी यूपी से जुड़ी ये ख़बरें भी पढ़िए

पहले चरण का चुनाव: 73 सीटों पर बीजेपी की राह में ‘चौधरी’ बनेंगे रोड़ा ?

पश्चिमी यूपी की कई सीटों पर जाट समुदाय का दबदबा, एथनिक पहचान बचाने के लिए एकजुटता की कोशिश

Share it
Top