साक्षी महाराज के बयान पर चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट 

साक्षी महाराज के बयान पर चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट भाजपा के उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज।

लखनऊ (भाषा)। चुनाव आयोग ने उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज के विवादित बयान को लेकर मेरठ के जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय के मुताबिक आयोग ने साक्षी महाराज के कल के विवादास्पद बयान को लेकर रिपोर्ट तलब की है। जानिए मामला क्या है। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तिथियां घोषित होते ही केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सांप्रदायिक कार्ड खेलना शुरू कर दिया है। उन्नाव से भाजपा सांसद आचार्य महामंडलेश्वर सच्चिदानंद हरि साक्षी महाराज ने कहा है कि चार बीवी और 40 बच्चे हमारे देश को मंजूर नहीं हैं। सांसद महाराज के दिल में मुस्लिम महिलाओं के प्रति भी दर्द उमड़ आया। उन्होंने कहा, "तलाक के नाम पर मुस्लिम महिलाओं का उत्पीड़न हो रहा है।"

साक्षी महाराज ने यह बयान शुक्रवार को मेरठ के वेस्ट एंड रोड स्थित सिद्धपीठ संकटमोचन हनुमान श्री बालाजी एवं शनि शक्तिपीठ शनिधाम मंदिर के सामने जैन विवाह मंडप में आयोजित संत समागम में बतौर मुख्य अतिथि दिया था, जो मीडिया की सुर्खी शनिवार को बना।

उन्होंने कहा था कि सभी राजनैतिक दल और हिंदुस्तान की जनता बढ़ती जनसंख्या को लेकर चिंतित है। भारत सरकार को इस पर कड़ा कानून बनाना चाहिए। तीन तलाक के खिलाफ केंद्र सरकार ने सही कदम उठाया है। महाराज ने यह भी कहा था कि भाजपा विधानसभा चुनाव में कैराना और कश्मीर का मुद्दा भी उठाएगी।

उप्र में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) को निशाने पर लेते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि प्रदेश को लूटने वाले सपा के लोग जब अपने परिवार और पार्टी को ही टूटने से नहीं बचा पा रहे हैं, तो उप्र को क्या संभालेंगे।

मुस्लिम समुदाय के बारे में साक्षी महाराज का विवादास्पद बयान हालांकि उन्हीं की पार्टी के नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को रास नहीं आया। नकवी ने कहा, "यह उनकी व्यक्तिगत राय है। भाजपा का साक्षी महाराज के इस बयान से कोई लेना-देना नहीं है।"

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) जे. रविंदर गौड़ ने बताया कि सदर थाना पुलिस को कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। साक्षी महाराज का 'चार बीवी और 40 बच्चों' वाला बयान आचार संहिता के उल्लघंन के दायरे में आता है।

उन्होंने कहा कि केवल धार्मिक कार्यक्रम की अनुमति ली गई थी, लेकिन इसमें किसी राजनीतिक पार्टी के सांसद को बुलाया जा रहा है, यह नहीं बताया गया था। धार्मिक कार्यक्रम को जिस तरह राजनीतिक रूप दिया गया, वह भी आपत्तिजनक है।

सूत्रों के मुताबिक, निर्वाचन आयोग ने मेरठ के जिलाधिकारी से साक्षी महाराज के कार्यक्रम का वीडियो तलब किया है।

Share it
Top