मायावती ने EVM पर उठाया सवाल- कहा- यूपी उत्तराखंड के नतीजे चौंकाने वाले

मायावती ने EVM पर उठाया सवाल- कहा- यूपी उत्तराखंड के नतीजे चौंकाने वालेमायावती ने की यूपी उत्तराखंड में दोबारा चुनाव कराने की मांग।

लखनऊ। बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने यूपी और उत्तराखंड के परिणामों को चौंकाने बताते हुए कहा कि ईवीएम ने छेड़छाड़ हुई है। उन्होंने चुनाव आयोग से ये चुनाव रद्द कर फिर से बैलेट से चुनाव कराए जाने की मांग की है।

ये भी पढ़ें- बीजेपी का मायावती पर पलटवार, कहा, जनता का ईवीएम से नहीं मायावती पर से विश्वास उठ गया है

यूपी और उत्तराखंड में मोदी लहर के बाद के मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा की ये नतीजे गले के नीचे नहीं उतर रहे हैं। मायावती ने ईवीएम पर सवाल उठाते हुए कहा कि ऐसा लगता है दूसरी पार्टी के वोट बीजेपी के खाते में चले गए। बसपा को प्राप्त रिपोर्ट में मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में ज्यादातर वोट बीजेपी को चले गए हैं। इस आशंका को बल मिल रहा है वोटिंग मशीनों को मैनेज किया गया है। भाजपा ने एक भी टिकट मुस्लिम को नहीं दिया। इसके बावजूद मुसलमानों का वोट बीजेपी को जा रहा है। पूरी दुनिया में ये बात कोई नहीं मानेगा। 2014 में भी ऐसी आशंका जताई थी।

बटन किसी पर दबे वोट बीजेपी को गया है, दोबारा कराएं चुनाव : मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने चुनाव परिणाम आने के बाद चुनाव आयोग और भारतीय जनता पार्टी पर बहुत बड़ा और चौकाने वाले आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि ईवीएम से वोटिंग में गड़बड़ी की जा रही है। वोट किसी को भी दिया जाए, बटन किसी चुनाव चिन्ह पर दबे मगर वोट मिलता भाजपा को ही है। उन्होंने इस बात की शिकायत चुनाव आयोग से करते हुए मांग की है कि बैलेट पेपर के जरिये प्रदेश में दोबारा चुनाव करवाए जाएं।

मायवती ने कहा कि, “बहुत चौकाने वाले परिणाम है। गले से नीचे नहीं उतर रहे हैं। आप लोगों के गले से नीचे नहीं उतर रहे हैं। बसपा को प्राप्त रिपोर्ट में मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में ज्यादातर वोट बीजेपी को चले गए हैं। इस आशंका को बल मिल राहा है वोटिंग मशीनों को मैनेज किया गया है। भाजपा ने एक भी टिकट मुस्लिम को नहीं दिया। इसके बावजूद मुसलमानों का वोट बीजेपी को जा रहा है। पूरी दुनिया में ये बात कोई नहीं मानेगा। 2014 में भी ऐसी आशंका जताई थी। ऐसा संभव नहीं है। कमल पर ही जा रहा है सारा वोट। चुनाव आयोग के सामने बार-बार ये मुद्दा उठाया गया था। इस संबंध में छह मार्च 2017 को सातवें और अंतिम चरण के मतदान के एक दिन पहले प्रेस वार्ता में इसी प्रकार का सवाल एक पत्रकार ने भी पूछा था।”

बसपा सुप्रीमो मुझे क्या पता था कि वह सच बोल रहा है। उस बात की पत्रकार की बात पर ध्यान नहीं दिया। आज मुझे लगा कि वह पत्रकार सही बोल रहा है। ये मामला बहुत गंभीर है। लोकतंत्र के लिए घातक है। मीडिया के जरिये भाजपा के लोगों को चेतावनी दे रही हूं कि आज जब भाजपा के लोग बहुत खुश रहे हैं। इस तरह की गड़बड़ी कर के लोकतंत्र की हत्या की है। खुली चेतावनी देती हूं तो वे आयोग कहें कि दोबारा मतदान की मांग की है। दोबारा बैलेट पेपर पर चुनाव करवाया जाये। लोकतंत्र रहेगी ही नहीं। मैंने इस संबंध में चुनाव आयोग को भी पत्र लिख दिया है।

Share it
Top