कानपुर रैली में मोदी पर बरसे राहुल और अखिलेश, राहुल ने अपने तरीके से बताई स्कैम की परिभाषा

कानपुर रैली में मोदी पर बरसे राहुल और अखिलेश, राहुल ने अपने तरीके से बताई स्कैम की परिभाषाकानपुर रैली में अखिलेश यादव और राहुल गांधी।

कानपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा उत्तर प्रदेश में सपा-कांग्रेस गठबंधन को ‘‘स्कैम'' बताए जाने पर चुटकी लेते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश में समाजवादी और कांग्रेस के युवा गठबंधन से मोदी के चेहरे का रंग उड़ गया है। अभी गठबंधन को उन्होंने स्कैम कहा है आने वाले दिनों में पता नहीं कब ए-बी-सी-डी, एक्स-वाई-जेड, पी-पी-पी कहने लगें।'' इस दौरान उऩ्होंने स्कैम शब्द की नई परिभाषा भी बताई।

भीड़ में ‘मोदी मुर्दाबाद' के नारे लगने पर राहुल ने कहा, ‘‘आप उनके लिए मुर्दाबाद ना कहें। अपना गुस्सा दिखाने के लिए सपा-कांग्रेस गठबंधन के पक्ष में वोट दें। उन्होंने नोटबंदी कर आपके पेट पर लात मारी है, अब आप कुछ ऐसा करें कि जिस तरह बिहार चुनाव के बाद मोदी बिहार का नाम लेना भूल गये हैं, वैसे ही उत्तर प्रदेश चुनाव के बाद वह प्रदेश का नाम लेना भी भूल जायें।''

राहुल गांधी, कांग्रेस उपाध्यक्ष

उन्होंने नोटबंदी कर आपके पेट पर लात मारी है, अब आप कुछ ऐसा करें कि जिस तरह बिहार चुनाव के बाद मोदी बिहार का नाम लेना भूल गये हैं, वैसे ही उत्तर प्रदेश चुनाव के बाद वह प्रदेश का नाम लेना भी भूल जायें।'' उन्होंने कहा, ‘‘मोदी सबसे ज्यादा डर युवाओं से ही है। इस बार उत्तर प्रदेश के चुनाव में युवा वर्ग उन्हें मुंहतोड़ जवाब देगा क्योंकि उन्होंने मेक इन इंडिया का नारा दिया, वादे भी किये लेकिन युवाओं को रोजगार नहीं दिया।'' समाजवादी पार्टी और कांग्रेस की रविवार को संयुक्त रैली कानपुर के गर्वनमेंट इंटर कालेज मैदान में हुई। रैली स्थल पर जहां मुख्यमंत्री अखिलेश यादव दोपहर तीन बजे गये वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी करीब एक घंटा देरी से शाम चार बजे आये। देर से आने को लेकर राहुल ने जनता से माफी भी मांगी।

पूरे प्रदेश में खेलों को दे रहे बढ़ावा- अखिलेश

सपा-कांग्रेस गठबंधन की इस रैली में शहर से समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के सभी प्रत्याशी मंच पर थे मौजूद थे। दोनों नेताओं ने अपने-अपने प्रत्याशियों का एक-दूसरे से परिचय करवाया। सभा को पहले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने संबोधित किया और उनकी सरकार द्वारा कानपुर तथा उत्तर प्रदेश में किये गये विकास कार्यों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा, ‘‘जिस घाटमपुर पावर प्रोजेक्ट का शिलान्यास हमने और पूर्व कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने मिलकर किया था उसी का शिलान्यास भाजपा ने दोबारा करवा दिया लेकिन काम अभी भी शुरू नहीं हुआ है।'' उन्होंने कहा, ‘‘कानपुर के ग्रीन पार्क में पहले क्रिकेट मैच नहीं होते थे, लेकिन जबसे हमारी सरकार है आयी लगातार मैच हो रहे हैं और हम पूरे प्रदेश में खेलों को बढ़ावा दे रहे हैं।''

अखिलेश यादव ने उन्नाव और कानपुर में रैलियों को संबोधित किया।

दोस्त वही अच्छा, जिसका दिल बड़ा

सपा और कांग्रेस गठबंधन पर मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘दोस्त वहीं अच्छा होता है, जिसका दिल बड़ा होता है। कंजूस दोस्त से दोस्ती कर आपको दुख ही मिलेगा। कांग्रेस से हमारा गठबंधन इसलिये हुआ कि क्योंकि हम दोनों के दिल बड़े हैं। हमें उम्मीद है कि दोनों पार्टियां मिल कर उत्तर प्रदेश में सरकार बनाएंगी और जो काम अधूरे रह गये है उन्हें पूरा करेंगे।'' केंद्र के नोटबंदी के फैसले की तीखी आलोचना करते हुए अखिलेश ने सवाल किया, ‘‘भाजपा कहती थी कि नोटबंदी से कालाधन वापस आएगा, अब वह बताएं कि कितना कालाधन वापस आया?'' उन्होंने कहा, ‘‘कालाधन तो वापस नहीं आया, हां अनेक लोगों की एटीएम और बैंकों की लाइन में लगने से मौत जरूर हो गयी।'' मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘नोटबंदी के दौरान बैंकों की लाइनों में लगने के दौरान जिनकी मौत हुई थी, सपा ने उनके परिजनों को दो-दो लाख रुपए सहायता राशि दी। लेकिन केंद्र ने ऐसा कुछ नहीं किया।'' उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘भाजपा वाले धोखा देते हैं, सपने दिखाते हैं, बहकाते हैं इसलिये इनके बहकावे में ना आयें। क्योंकि पिछले तीन साल से भाजपा सिर्फ वादे कर रही है, उसने जनता के लिये कुछ नहीं किया है, जबकि समाजवादी पार्टी ने जो कहा उससे ज्यादा किया। उत्तर प्रदेश में मेट्रो दी, एक्सप्रेस वे दिया, गरीबों को पेंशन और लैपटॉप दिया।''

Share it
Top