उत्तर प्रदेश में श्रीकांत शर्मा बन सकते हैं बीजेपी का सीएम चेहरा

उत्तर प्रदेश में श्रीकांत शर्मा बन सकते हैं बीजेपी का सीएम चेहराश्री कांत शर्मा, मोदी और अमित शाह के काफी करीबी बताए जाते हैं।

लखनऊ। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के अहम बयान के बाद यूपी में भाजपा के मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर दो बड़े नाम सामने आए हैं। शाह ने बयान दिया है कि उप्र का मुख्यमंत्री चुने जाने वाले विधायकों के बीच में से ही कोई होगा। इसमें सबसे बड़ा और पहला नाम मथुरा से चुनाव लड़ रहे नरेंद्र मोदी और अमित शाह के कोर ग्रुप में मेंबर राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा का है। दूसरा नाम मेरठ से चुनाव लड़े रहे पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेई का होगा। मगर श्रीकांत इस दौड़ में कहीं आगे निकल रहे हैं।

भाजपा ने बिहार और महाराष्ट्र की तर्ज पर अब तक यूपी में मुख्यमंत्री पद का कोई भी दावेदार नहीं खड़ा किया है। अब तक भाजपा के नेता नरेंद्र मोदी के चेहरे पर ही चुनाव लड़ते रहे हैं। मगर अब ये तय कर दिया गया है कि अगर भाजपा चुनाव जीती तो चुने हुए विधायकों में ही से ही मुख्यमंत्री चुना जाएगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने घोषणापत्र जारी कर करते समय कहा कि “अभी सीएम का कोई फेस नहीं है। मगर जब चुनाव हो जाएंगे। हम जीतेंगे तब चुने हुए विधायक अपना नेता इन्हीं विधायकों में से चुनेंगे। जिसके बाद में संसदीय बोर्ड उस पर अपनी मुहर लगाएगा। तब सीएम तय होगा।”

बीजेपी के सूत्रों ने बताया कि, श्रीकांत शर्मा और लक्ष्मीकांत बाजपेई में से एक व्यक्ति उत्तर प्रदेश के लिए सीएम का चेहरा भाजपा बना सकती है। या अब कहें तो चुनाव जीतने पर भाजपा उनको उतारेगी। लक्ष्मीकांत बाजपेई के मुकाबले श्रीकांत शर्मा युवा हैं और केंद्रीय नेतृत्व के अधिक नजदीक हैं। इसलिए उनको बीजेपी चुन सकती है।

कौन हैं श्रीकांत शर्मा

श्रीकांत शर्मा मथुरा सीट से भाजपा के उम्मीदवार हैं। अपनी शुरुआती पढ़ाई मथुरा से करने के बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की। इस दौरान संघ और एबीवीपी से जुड़े। दिल्ली विश्वविद्यालय में पहली बार एबीवीपी को बड़ी जीत श्रीकांत के नेतृत्व में मिली। जब चारों प्रमुख पदों पर एबीवीपी के युवा ही काबिज हुए थे। इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में अमित शाह के कोर ग्रुप में शामिल हो गए। अब मथुरा से चुनाव लड़ने जा रहे हैं।

Share it
Top