सपा का रजत जयंती समारोह आज, शिवपाल दिखाएंगे अपनी ताकत

सपा का रजत जयंती समारोह आज, शिवपाल दिखाएंगे अपनी ताकतजनेश्वर मिश्र पार्क मेें मनाया जाएगा रजत जयंती समारोह।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी अपने जन्म के 25 साल के सफर को यादगार बनाने के लिए जनेश्वर मिश्र पार्क में आज रजत जयंती समारोह का आयोजन किया जा रहा है। सुबह 10 बजे से शुरू हो रहे इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सपा ने पूरी तैयारी कर ली है।

यह नेता भी होंगे शामिल

इस समारोह में सपा के साथ ही सोशलिस्ट विचारधारा से संबंध रखने वाले कई दलों के प्रमुख और बड़े नेता भी इसमें हिस्सा लेंगे। जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री और जनता दल सेक्यूलर के नेता एचडी देवगौड़ा, राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, जनता दल यूनाइटेड के पूर्व अध्यक्ष और सांसद शरद यादव, इंडियन नेशनल लोकदल के अभय चौटाला प्रमुख हैं।

गठबंधन को लेकर कर सकते हैं घोषणा

इस समारोह में सबकी निगाहें सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव भी होंगी जो इस समारोह में गठबंधन को लेकर नई घोषणा भी कर सकते हैं। सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव इस समारोह के जरिए अपनी ताकत को अपने प्रतिद्वंदी नेताओं को दिखाएंगे। दो दिन पहले अखिलेश यादव ने विकास रथयात्रा में जिस तरह भारी भीड़ जुटाकर अपने को साबित किया है उसके जवाब में शिवपाल यादव ने भी कमर कस ली है। रजत जयंती समारोह को भव्य बनाने के लिए सपा प्रदेश अध्यक्ष ने अपने हाथ में कमान ले रखी है। उनके समर्थकों ने पूरे शहर को समाजवादी पार्टी के होर्डिंग्स ओर बैनर से पाट दिया है।

सपा से बर्खास्त नेताओं को प्रवेश नहीं

शुक्रवार को रजत जयंती समारोह को लेकर सपा प्रदेश कार्यालय में बैठक करने के बाद मीडिया से बात करते हुए शिवपाल यादव ने अखिलेश समर्थकों को लेकर कड़ा रूख अपनाया। उन्होंने कहा कि सपा से बर्खास्त नेताओं को रजत जयंती समारोह में एंट्री नहीं दी जाएगी। यह नेता रजत जयंती समारोह किसी तरह न घुस पाएं, इसको लेकर डीएम और एसएसपी को निर्देश भी जारी किर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही अगर कोई उपद्रवी कार्यक्रम में घुसा तो उसके खिलाफ एक्शन होगा। शिवपाल यादव को यह बयान सीधे-सीधे अखिलेश यादव के युवा समर्थकों को इशारा था जो पिछले दिनों सपा प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ काफी उधम मचाए थे।

25 साल पहले लखनऊ में ही हुई थी सपा की स्थापना

उत्तर प्रदेश में सत्तारुढ़ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने 4 नवंबर 1992 को राजधानी लखनऊ में अपनी पार्टी की स्थापना की थी। लखनऊ के ही बेगम हजरत महल पार्क में पार्टी का दो दिवसीय अधिवेशन हुआ था। अलग पार्टी के गठन के बाद मुलायम सिंह यादव सपा और बसपा का गठबंधन करके 1993 में चुनाव में उतरे थे। जिसमें उनके गठबंधन को बहुमत मिला था और मुलायम सिंह यादव उत्तर प्रदेश में दूसरी बार मुख्यमंत्री बने थे। 4 दिसंबर को शपथ लेने के बाद उनकी सरकार दो साल तक ही चली और गेस्ट हाउस कांड के बाद उनकी सरकार का पतन हो गया था।

सपा रजत समारोह में कड़े सुरक्षा प्रबंध

राजधानी के जनेश्वर मिश्र पार्क में शनिवार को होने जा रहे समाजवादी पार्टी के रजत जयंती में सुरक्षा में कोई चूक ना हो इसके लिए राजधानी की पुलिस पूरी तैयारी में है। इस दौरान अतिविशिष्ट लोगों की उपस्थिति को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये हैं। रजत जयंती समारोह में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह सहित सपा के लगभग सभी नेताओं के साथ-साथ राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, रालोद अध्यक्ष अजित सिंह के शामिल होने की सम्भावना है। रजत जयंती के दिन सुरक्षा में चूक न हो इसके लिए एक डीआईजी, 5 एसपी, 24 एडिशनल एसपी, 39 सीओ, 47 एसो-एसएचओ, 268एसआई, 500 एसआई( ट्रेनी), 992 हेड कांस्टेबल, 22 घोड़ा पुलिस, 181 महिला कांस्टेबल, 22 महिला एसआई मौजूद होंगे।

Share it
Top