हमने अखिलेश को सीएम बनाया, अगला सीएम विधायक तय करेंगे: मुलायम सिंह

हमने अखिलेश को सीएम बनाया, अगला सीएम विधायक तय करेंगे: मुलायम सिंहप्रेस कांफ्रेंस में शिवपाल यादव के साथ सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में मचे घमासान में सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने अपने पत्ते खोल दिए हैं। पार्टी और संगठन के बीच मची खींचतान में मुलायम सिंह यादव अपने भाई शिवपाल यादव के समर्थन में खुलकर आ गए हैं। मंगलवार को समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यालय में सपा में चल रहे विवाद पर सफाई देते हुए मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में बहुमत मेरे नाम पर मिला था। मैंने अखिलेश यादव को मुख्मयंत्री बनाया।

अब विधानसभा चुनाव में बहुमत मिलने पर विधायक तय करेंगे मुख्यमंत्री

आने वाले विधानसभा चुनाव में बहुमत मिलने के बाद विधानमंडल दल की बैठक में तय होगा कि मुख्यमंत्री कौन होगा। मुलायम सिंह ने इशारों-इशारों में ही यह साफ कर दिया कि अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री का चेहरा बनाकर पार्टी चुनाव मैदान में नहीं जाएगी। सोमवार को समाजवादी पार्टी कार्यालय में अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बीच हुए विवाद पर मुलायम सिंह ने पर्दा डालने की भी कोशिश की।

सभी बर्खास्त मंत्रियों के साथ पहुंचे मुलायम सिंह

उन्होंने कहा कि हमारा परिवार एक और पार्टी एक है। प्रेस कांफ्रेंस में मुलायम सिंह यादव सपा के सभी बर्खास्त मंत्रियों और शिवपाल यादव के साथ मौजूद थे। जिसको लेकर यह साफ हो गया कि जिन मंत्रियों को अखिलेश ने हटाया है, उनको मुलायम सिंह का वरदहस्त हासिल है। जिस गायत्री प्रजापति को मंत्री पद से हटाने और दोबारा मंत्री बनाने को लेकर सपा में शुरूआती विवाद हुआ था। वह प्रेस कांफ्रेंस में विशेष रूप में उपस्थित थे। साथ ही आशू मलिक भी मुलायम सिंह के साथ मौजूद रहे, जिनको सोमवार को समाजवादी पार्टी की संयुक्त बैठक में हुए विवाद का कारण बताया गया।

यह फैसला मैं मुख्यमंत्री पर छोड़ता हूं

यह पूछने पर कि बर्खास्त मंत्रियों को सरकार में फिर वापस लिया जाएगा कि नहीं, इसके जवाब में मुलायम सिंह ने कहा कि यह मैं मुख्यमंत्री पर छोड़ता हूं। सपा से छह साल के लिए निष्काषित रामगोपाल यादव के खोटे सिक्के के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए मुलायम सिंह ने कहा कि उनकी बात का कोई महत्व नहीं देता। प्रेस कांफ्रेंस में अमर सिंह के बारे में पूछने पर मुलायम सिंह ने कहा कि यहां पर वह कोई विवादित बात नहीं करेंगे। मुलायम सिंह की प्रेस कांफ्रेंस में सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव पूरे समय उनके साथ मौजद रहे।

सपा कार्यालय के बाहर अखिलेश समर्थकों का हंगामा

सपा में उठा तूफान शांत हो गया है, यह जताने के लिए मुलायम सिंह यादव हल्के-फुल्के अंदाज में प्रेस को संबाधित करने की कोशिश भी किए, लेकिन उनकी प्रेस कांफ्रेंस के खत्म होते ही अखिलेश समर्थकों ने सपा कार्यालय के मेन गेट पर अखिलेश यादव के समर्थन में नारेबाजी करते हुए कार्यालय में घुसने की कोशिश करने लगे। बड़ी मुश्किल से सुरक्षा में तैनात जवानों ने मेन गेट बंद करके उनको अंदर आने से रोका। इसके बाद अखिलेश यादव के समर्थक उग्र हो गए। जिसके बाद मुलायम सिंह और शिवपाल यादव को पार्टी कार्यालय में ही आधे घंटे के लिए रूकना पड़ा। जिससे मुलायम सिंह यादव आग बबूला हो गए और हंगामा करने वाले नेताओं को चिन्हित करके कार्रवाई करने का आदेश दिया। मुलायम सिंह यादव के साथ सपा के वरिष्ठ नेता अशोक बाजपेयी, बर्खास्त मंत्री गायत्री प्रजापति, शादाब फातिमा, ओमप्रकाश सिंह और सपा के अंबिका चौधरी उपस्थित रहे।

Share it
Top