यूपी बोर्ड में पहली बार ऑनलाइन बनाए गए 154 परीक्षा केंद्र

यूपी बोर्ड में पहली बार ऑनलाइन बनाए गए 154 परीक्षा केंद्रप्रतीकात्मक तस्वीर 

लखनऊ। यूपी बोर्ड की परीक्षा में राजधानी में 154 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित होगी। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने बुधवार देर रात परीक्षा केंद्रों की प्रस्तावित सूची जारी कर दी। यूपी बोर्ड में इस साल पहली बार परीक्षा केंद्र के निर्धारण से जिला समिति को दूर रखा गया है।

इसके बजाय कंप्यूटर पर ऑनलाइन सॉफ्टवेयर के माध्यम से परीक्षा केंद्र निर्धारित किये गए हैं। प्रस्तावित परीक्षा केंद्रों पर 20 नवंबर तक आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। आपत्तियों के निस्तारण के बाद फाइनल सूची का प्रकाशन 27 नवंबर को किया जाएगा। यूपी बोर्ड में परीक्षा केंद्र और शिफ्टिंग सूची में शिक्षा माफिया की पकड़ को देखते हुए इस साल पहली बार परीक्षा केंद्र ऑनलाइन बनाए गए हैं।

इसके लिए बोर्ड ने पोर्टल पर सभी कॉलेजों का ब्यौरा फीड कराया था। जिला विद्यालय निरीक्षक को भरी हुई सूचनाओं का सत्यापन करना था। सत्यापन के बाद ऑनलाइन सॉफ्टवेयर के माध्यम से परीक्षा केंद्रों की सूची जारी की गई है।

ये भी पढ़ें-यूपी बोर्ड ने परीक्षा में बैठने के लिए आधार कार्ड को किया अनिवार्य

जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. मुकेश सिंह ने बताया कि विद्यालय दूरी या किसी अन्य प्रकार की समस्या होने पर 20 नवंबर तक अपनी आपत्ति दे सकते हैं। सामान्य जनता भी सेंटर सूची पर अपनी आपत्ति दर्ज करा सकती है। उसका निस्तारण किया जाएगा। निस्तारण के बाद अंतिम सूची का प्रकाशन 27 नवंबर को किया जाएगा। यूपी बोर्ड में हाईस्कूल व इंटर में मिलाकर इस साल करीब एक लाख परीक्षार्थी पंजीकृत हैं।

बीते साल के मुकाबले बढ़ गए चार परीक्षा केंद्र

यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए राजधानी में बीते साल 150 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। ऑनलाइन सिस्टम से परीक्षा केद्रों की संख्या बीते साल के मुकाबले चार बढ़ गई है। इस साल परीक्षा केंद्रों की संख्या 154 है। ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पर परीक्षा केंद्रों के बीच दूरी, छात्र संख्या और धारण क्षमता के हिसाब से सॉफ्टवेयर के माध्यम से परीक्षा केंद्रों का निर्धारण हुआ है।

ऑनलाइन हुआ निर्धारण तो खुल गई लॉटरी

यूपी बोर्ड में शिक्षा माफिया परीक्षा केेंद्र बनवाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाते हैं। धारण क्षमता से ज्यादा पंजीकरण करने तथा अन्य गड़बड़ियों के चलते बीते वर्षों में जिन परीक्षा केंद्रों का नाम सूची से बाहर किया गया था, इस साल उन्हें फिर से मौका मिल गया है। महेश सिंह सरस्वती इंटर कॉलेज, जेडए पब्लिक इंटर कॉलेज, एस पब्लिक इंटर कॉलेज ऐसे ही नाम हैं।

हालांकि डीआईओएस ने साफ किया है कि यह सूची अंतिम नहीं है। इसलिए अगर किसी विद्यालय के खिलाफ शिकायत मिलती है, या फिर वो पहले से ही ब्लैकलिस्टेड है तो उसका नाम सूची से काटा जाएगा। अंतिम सूूची का प्रकाशन 27 नवंबर को ही होगा।

ये भी पढ़ें-यूपी बोर्ड के छात्रों को कार्यालयों के चक्कर से जल्द ही मिलेगी निजात

कई नए विद्यालयों को मिल गया मौका

ऑनलाइन सॉफ्टवेयर के माध्यम से परीक्षा केद्रों का निर्धारण होने की वजह से इस बार सूची में कई नए नाम हैं। बीते साल तक इन विद्यालयों में परीक्षा केंद्र नहीं बनाया जाता था। इस साल ऑनलाइन सूची बनने पर पहली बार सीडीटी फाउंडेशन, न्यू विजन एकेेडमी गोसाईंगंज, डॉ. बीएएआईसी, संत एस राम, आदर्श इंडियन विद्यालय पलेंहदा जैसे कई ऐसे नाम हैं जो परीक्षा केंद्र की सूची में पहली बार शामिल हुए हैं।

ये भी पढ़ें-यूपी बोर्ड: इस बार 67 लाख छात्र देंगे परीक्षा

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top